सीडीएस रावत ने दुश्मनों के लिए रचा चक्रव्यूह, क्या है थिएटर कमांड और कैसे करेगा काम

सीडीएस रावत ने दुश्मनों के लिए रचा चक्रव्यूह, क्या है थिएटर कमांड और कैसे करेगा काम


नए साल की शुरूआत में देश की तीनों सेनाओं को हैप्पी न्यू ईयर गिफ्ट मिला। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत अपने पद से रिटायर होने के बाद देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) पद की संभाल ली है। उनकी सबसे बड़ी जिम्मेदारी तीनों सेनाओं औऱ सरकार के बीच तालमेल बनाने की है। आज के वर्तमान दौर में अमेरिका से लेकर चीन तक अपनी सेनाओं को शक्तिशाली बनाने के लिए एक नेतृत्व में ला रहे हैं। ताकि युद्ध के हालात में इन सेनाओं का आपसी तालमेल सर्वश्रेष्ठ रहे। ऐसा तभी हो सकता है जब रक्षा मंत्रालय के सभी अंग मिल कर एक रणनीति का पालन करे और यही काम सीडीएस की सबसे बड़ी जिम्मेदारी होगी। सीडीएस का पद संभालने के बाद ही अपने काम को अंजाम देने और दु्श्मनों के लिए चक्रव्यूह की रचना में बिपिन रावत लग गए हैं। जनरल बिपिन रावत ने कहा कि भविष्य में देश में थिएटर कमांड्स बनाए जाएंगे ताकि युद्ध के दौरान दुश्मन की हालत खस्ता करने के लिए रणनीति आसानी से बन सके।



बता दें कि थिएटर कमांड्स युद्ध के दौरान दुश्मन पर अचूक वार के लिए सेनाओं के सभी अंगों के बीच बेहतरीन तालमेल का सिस्टम है। युद्ध की रणनीतियों में वैश्विक स्तर पर आ रहे बदलावों के मद्देनजर भारत के लिए भी जरूरी हो गया है। यही वजह है कि आर्मी, नेवी और एयरफोर्स को एकीकृकत कर थिअटर कमांड बनाने की बात हो रही है। तो आइए 5 लाइनों में समझते हैं क्या होगा इसका रोल और कैसे करेंगे काम देश का थिएटर कमांडर। 


1. सेना के तीनों अंगों आर्मी, नेवी और एयरफोर्स के साथ-साथ अन्य सैन्य बलों को एक भौगोलिक क्षेत्र में एक ही ऑपरेशनल कमांडर के नीचे लाकर थिएटर कमांड बनाया जाता है।


2. इंटिग्रेटिड थिअटर कमांड्स का निर्माण भौगोलिक आधार पर किया जाता है या फिर इसका मकसद समान भूगोल वाले युद्ध क्षेत्र को हैंडल करना होता है। 


3. देश में एक ही थिएटर कमांड है जिसकी स्थापना 2001 में हुई थी। इसे अंडमान और निकोबार कमांड के नाम से जाना जाता है।


4. थिएटर कमांड से यह सुनिश्चित हो जाता है कि तीनों सेनाओं के बीच समन्वय बना हुआ है और ये एकसाथ काम करने को तैयार हैं। इससे संसाधनों की बचत होती है।


5. देश में करीब 15 लाख सशक्त सैन्य बल है. इन्हें संगठित और एकजुट करने के लिए थिएटर कमांड की जरूरत है। 


साभार 


Comments