बड़ौत में चल रहे सात दिवसीय जीवन कौशल शिक्षा प्रशिक्षण शिविर का समापन समारोह आयोजित

बड़ौत में चल रहे सात दिवसीय जीवन कौशल शिक्षा प्रशिक्षण शिविर का समापन समारोह आयोजित


बागपत। बड़ौत में भारत सरकार के नेहरू युवा केन्द्र संगठन बागपत के तत्वावधान में चल रहे सात दिवसीय जीवन कौशल शिक्षा प्रशिक्षण का सोमवार को समापन किया गया। जिसमें बच्चों को जहां प्रमाण पत्र वितरित किये गये। वहीं किशोरों ने प्रशिक्षण के दौरान प्राप्त की गई विभिन्न जानकारियों के बारे में बताया। साथ ही प्रशिक्षण के दौरान किशोरों को क्षेत्र के विभिन्न प्राचीन व एतिहासिक स्थलों का भ्रमण कराया गया।



क्षेत्रीय ग्रामीण विकास संस्थान में बड़ौत में चल रहे जीवन कौशल शिक्षा शिविर का समापन समारोह आयोजित किया गया। प्रशिक्षण शिविर में बागपत के 10 से 19 वर्ष के 45 किशोरों ने प्रतिभाग किया। प्रशिक्षण का संचालन नेहरू युवा केन्द्र संगठन के जिला युवा समन्वयक अरुण कुमार तिवारी के निर्देशन में किया गया। इस दौरान प्रशिक्षक के रूप में गीता शर्मा एवं कीर्ति यादव ने प्रशिक्षण के दौरान प्रतिभागियों को जीवन कौशल शिक्षा के अंतर्गत आने वाले विभिन्न आयामों के बारे में जानकारी दी। प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य किशोरावस्था में होने वाले रोगों से जागरूकता, एचआईवी एड्स जैसी बीमारियों से बचने के उपाय, तनाव मुक्त रहने व जीवन में व्यायाम का लाभ, सामाजिक समरसता को बरकरार रखने में युवाओं एवं किशोरों का योगदान, जीवन में लक्ष्य को निर्धारित कर उनको पाने की रूपरेखा बनाना, व्यक्तित्व विकास, समाज के प्रति किशोरों की जिम्मेदारी, नशे से मुक्ति एवं जीवन में सकारात्मक सोच का महत्व, आदि विषयों पर विषय विशेषज्ञों द्वारा जानकारी दी गई। साथ ही प्रशिक्षण के अंतर्गत किशोरों को क्षेत्र भ्रमण के अंतर्गत बड़ा गांव स्थित प्राचीन व एतिहासि​क जैन मंदिरों का भ्रमण  कराया गया। इस भ्रमण का उद्देश्य किशोरों में भारतीय संस्कृति एवं सभी धर्मों के प्रति किशोरों को जागरूक करना है। समाचन समारोह के दौरान जिला युवा समन्वयक अरूण कुमार तिवारी ने किशोरों को भारत सरकार द्वारा चलाए जा रहे विभिन्न सामाजिक विकास के कार्यक्रमों के बारे में भी जानकारी दी। इसके अलावा किशोरों को समाज में व्याप्त बुराइयों जैसे नशा संसाधनों की बर्बादी, महिलाओं के प्रति अपराध आदि विषयों पर भी जागरूक किया गया। जबकि नेहरू युवा केन्द्र बागपत की लेखाकार आंचल श्योराण ने किशोरों को कहा कि करियर काउंसलिंग के बारे में बताते हुए कहा करियर काउंसलिंग से आपका बहुत-सा पैसा और समय भी बच जाता है।



अगर आप अपनी क्षमता के विपरीत जाएंगे या बेमन से कोई करियर चुनेंगे, तो हो सकता है आप किसी ऐसे करियर को पाने में पैसा लगा दें, जिसमें आपका मन नहीं था। ऐसा करने से आपका समय व पैसा दोनों बर्बाद होता है। क्योंकि सही समय पर लिया गया सही निर्णय आपको न सिर्फ एक अच्छा भविष्य दे सकता है, बल्कि आपका काफी समय और पैसा भी बचा सकता है। अगर आप खुद करियर नहीं चुन पा रहे हैं, तो किसी करियर काउंसलर की मदद लेना आपके लिए बेहतर ऑप्शन हो सकता है, ताकि आपको आपकी क्षमता व योग्यता के मुताबिक करियर मिल सके। बाद में किशोरों को प्रमाण पत्र वितरित किये गये।


Comments