ब्लाक भोजपुर के एडीओ और बीडीओ द्वारा सरकार के रुपयों का किया जा रहा है दुरुपयोग

ब्लाक भोजपुर के एडीओ और बीडीओ द्वारा सरकार के रुपयों का किया जा रहा है दुरुपयोग


मोदीनगर। जनपद गाजियाबाद के ब्लाक भोजपुर का एक ऐसा मामला सामने आया जहां पर एडीओ पंचायत राजेंद्र कुमार शर्मा ने ग्राम पंचायत सदस्यों को बांटी जा रही सामग्री अपने घनिष्टों को ही बांट डाला। ऐसा लग रहा था कि जैसे एडीओ पंचायत राजेंद्र कुमार शर्मा की लड़की या लड़के का जन्मदिन हो। आपको बताते चलें कि जनपद गाजियाबाद के ब्लॉक भोजपुर में ग्राम पंचायत सदस्यों की एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें गांवों में जागरूकता व विकास कार्यों के लिए वार्ड मेंबरों को बुलाया गया। वार्ड मेंबरों को समस्या और सुझाव के लिए पैन डायरी बैग आदि का भी वितरण किया गया था जो केवल मेंबरों के लिए ही थी। एडीओ द्वारा अपनी मनमर्जी से कुछ घनिष्ठो को भी वितरण किया जो मेंबर नहीं थे ।



एक युवक एडीओ पंचायत के कार्यालय के सामने बैग लिए नजर आया जब उससे बारे पूछा गया तो वह एडीओ पंचायत के कार्यालय में भागता नज़र आया।



जब इस बारे में एडीओ से पूछा गया तो वह बगले झांकने लगे। वहीं जब संख्या के बारे में एडीओ  पंचायत बीडीओ से पूछा गया तो उनकी संख्या में भी भिन्नता पाई गई। कुछ मेंबरों ने नाम न छापने पर बताया कि एडीओ पंचायत ने मीटिंग के लिए अपने घनिष्टों को ही न्योता दिया था जिससे ब्लॉक भोजपुर में आने वाले गांवो के मेंबरों में रोष व्याप्त है। मेंबरों ने बताया कि पहली बात तो सरकार की तरफ से कोई प्रोग्राम नहीं होते, अगर होते भी हैं तो प्रोग्राम में एडीओ पंचायत अपने मनमर्जी मेंबरों को सूचित करते हैं। इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि ब्लॉक भोजपुर में लगभग 47 गांव है, जिनमें गांव के लगभग 15 मेंबर है और सभी कुल मेंबरों की संख्या एडीओ पंचायत के अनुसार 130 और बीडीओ पंचायत के अनुसार 60 के बीच में ही रही । इससे अंदाजा आ होता है कि एडीओ व बीडीओ की सांठगांठ से किस तरह से सरकार के पैसे का दुरुपयोग किया जा रहा है।


Comments