कोरोना के डर से हुए लॉक डाउन के चलते हजारों मजदूर खड़े हैं भुखमरी की कगार पर - निजाम चौधरी

कोरोना के डर से हुए लॉक डाउन के चलते हजारों मजदूर खड़े हैं भुखमरी की कगार पर - निजाम चौधरी



मुरादनगर। शहर में रहकर दूरदराज से आए आर्थिक कमजोर लोग यहां हैंडलूम पावरलूम उद्योग में काम  करते हैं। यहां जितना काम अपना मेहनताना के हिसाब से मजदूरों से कार्य लिया जाता है। मुरादनगर  हैंडलूम पावर लूम मजदूर एसोसिएशन के अध्यक्ष  निजाम चौधरी ने जिला अधिकारी गाजियाबाद को पत्र भेजकर मांग की है कि लॉक डाउन जो मजदूर  अपने घर में  बैठ गए हैं उन्हें रोटी तक नसीब नहीं हो रही क्योंकि कोरोना के डर व प्रशासन की शक्ति  के कारण फैक्ट्रियां बंद कर दी गई हैं। जिससे  मजदूरों के सामने रोजी रोटी का संकट खड़ा हो गया है। निजाम ने पत्र में अनुरोध किया है कि लॉक डाउन और बंदी की वजह से मुरादनगर का करीब 3- 4 हजार मजदूर पॉवरलूम फ़ैक्टरिया बंद होने से परेशान हैं, राशन के लिए मोहताज है। सरकार इनके लिए राशन का इंतजाम कराने की व्यवस्था करे। निजाम ने कहा कि मुरादनगर में काम करने वाला मजदूर सुबह से शाम तक काम करता है। जब उसके परिवार को रूखी सूखी रोटी मिल पाती है। लॉक डाउन के कारण फैक्ट्रियां बंद कर दी गई है। जिसके कारण वह लोग भूखे मरने की कगार पर हैं। ऐसे लोगों को सरकार से आर्थिक सहायता दी जानी चाहिए।


Comments