खाने का संकट, मजबूर मजदूर कर रहे हैं पलायन, सपा नेता कर रहे हैं मदद
खाने का संकट, मजबूर मजदूर कर रहे हैं पलायन, सपा नेता कर रहे हैं मदद


 

 

मुरादनगर। तालाबंदी के कारण मजदूर दयनीय स्थिति में पहुंच गए हैं। जिन स्थानों पर कार्य कर रोजी रोटी कमा रहे थे। कोरोना के कहर के कारण वह बेरोजगार हो पलायन करने को विवश है यह कहना है, समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता कुंवर फारुख चौधरी  का  उन्होंने कहा कि स्थिति बहुत ज्यादा खराब हो गई है। देश के तरक्की की  रीड की हड्डी कहे जाने वाले श्रमिक आज भुखमरी के कगार पर है। काम न मिलने के कारण वह दर दर की ठोकरें खाने को मजबूर है। ऐसे प्रवासी मजदूरों को वह निरंतर अपने साथियों के साथ जरूरतमंद लोगों को तलाश कर उन्हें भोजन आदि की व्यवस्था करा रहे हैं। उन्होंने बताया कि यह प्रवासी मजदूर बिहार, झारखंड, पूर्वी उत्तर प्रदेश पश्चिमी बंगाल मध्य प्रदेश के हैं। रोजगार बंद होने से आय बंद हो गयी। जिसके कारण विवश मजदूर पैदल ही अपने घर के लिए चले हैं। भूखे प्यासे सैकड़ों  लंबी यात्रा और उनके पास खाने तक के लिए नहीं है। प्रवासी मजदूरों की सहायता के लिए सरकार ने सहायता के पूर्ण प्रबंध नहीं किए हैं। जिससे उनकी हालत भूख से मरने तक की आ गई  है। यदि समय रहते उचित व्यवस्था बनाई गई होती तो मजदूरों को पलायन करने के लिए मजबूर न होना होता। उन्होंने बताया कि वह और उनके साथी प्रशासन से  सामंजस्य बना उनके लिए भोजन व अन्य आवश्यक वस्तुएं उपलब्ध करा रहे हैं। जिन लोगों को प्रशासन द्वारा क्षेत्र में ठहराया गया है। ऐसे लोगों को उन्हें वही सहायता पहुंचाई जा रही है। प्रदेश सरकार उन लोगों को उनके निवास स्थानों तक पहुंचाने की व्यवस्था कर रही है। लेकिन अभी भी बड़ी संख्या में लोग सड़कों पर पैदल ही गंतव्य की ओर जा रहे हैं। 

 समाजसेवी शहजाद चौधरी का कहना है कि इस समय साधन संपन्न लोग अपने घरों में हैं। देश की तकदीर लिखने वाला मजदूर मजबूर होकर भटक रहा है उनकी बेबसी, बेचैनी, लाचारी, सैकडो किलो मीटर का पैदल सफर, सिर पर समान, गौद मे बच्चा देखकर यह हालत देखकर दुख होता है। सब मजदूर भाई सकुशल अपने घर पहुँच जाये। यही ऊपर वाले से हम भी प्रार्थना करते हैं। फारूख चौधरी ने बताया कि सहयोग करने में सब इंस्पेक्टर पम्मी चौधरी, शहजाद चौधरी, वासे चौधरी, शहजाद गाजी व अन्य।  

Comments