अजीत पाल त्यागी का भाजपा में और ज्यादा रुतबा बढ़ा 

अजीत पाल त्यागी का भाजपा में और ज्यादा रुतबा बढ़ा 



मुरादनगर। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग जनसंवाद रैली के दौरान मुरादनगर विधानसभा सदस्य अजीत पाल त्यागी को नाम लेकर संबोधित करने से यह स्पष्ट हो गया है कि उनकी पहचान पार्टी में अब बहुत आगे तक पहुंच चुकी है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश व ब्रज क्षेत्र के लिए आयोजित इस जनसंवाद रैली में अनेकों दिग्गज जुड़े हुए थे लेकिन पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने अपने संबोधन में कुछ गिने-चुने नाम ही लिए जिनमें अजीत पाल त्यागी का नाम शामिल होने से भारतीय जनता पार्टी में होने के बावजूद भी जो लोग अजीत पाल त्यागी का विरोध करने का प्रयास करते थे उनके प्रयासों पर भी कुठाराघात हुआ है। भारतीय जनता पार्टी कि इस रैली से लाखों लोग जुड़े हुए थे और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक भी शामिल रहे। उस मंच से क्षेत्रीय विधायक का नाम बुलाया जाना क्षेत्र के लिए भी गौरव का विषय है। अभी विधानसभा चुनाव होने में लंबा समय है लेकिन फिर भी अजीत पाल त्यागी विरोधी कुछ लोग अगले चुनाव तक चर्चाओं में पार्टी से उनका टिकट ही काट रहे थेे। राष्ट्रीय अध्यक्ष वह भी विशाल सत्ताधारी दल का यदि अजीत पाल त्यागी को पहचान कर उनके नाम से संबोधन करना भी अपने आप में भी बड़ा नाम हो जाता है। क्षेेत्रीय विधायक अजीत पाल त्यागी दिग्गज राजनीतिज्ञ पूर्व कैबिनेट मंत्री राजपाल त्यागी के पुत्र हैं। राजनीति का ककहरा उन्हें पिता के आशीर्वाद में मिला है। 


संयोग है कि सुबह को फादर्स डे पर पिता से आशीर्वाद लिया और शाम को पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने भी बड़ा नाम दे दिया। जिला पंचायत अध्यक्ष रहते हुए लोगों से जुड़े और पूर्ण बहुमत वाली भाजपा की सरकार में वह विधायक बनकर मुरादनगर क्षेत्र की आवाज बनकर विधानसभा पहुंचे। पश्चिमी उत्तर प्रदेश व ब्रिज क्षेत्र के लिए आयोजित जन संवाद रैली से पार्टी के कई नेताओं का कद भी बढ़ा है। इस बहु प्रचारित रैली के लिए भाजपाई एड़ी चोटी का जोर लगा कर जुटे रहे। कई मायनों में रैली सफल भी हुई। गाजियाबाद जिले में तमाम नेता रैली की सफलता के लिए प्रयास करते दिखे। उनके प्रयासों से रैली अपने उद्देश्यों में कामयाब भी हुई लेकिन जिस तरह से पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने अजीत पाल त्यागी का नाम याद रहा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश की नई राजनीतिक पटकथा भी लिखने में इस रैली की महत्वपूर्ण भूमिका हो सकती है। 


रैली कहने के लिए वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग रैली लेकिन ऐसे बड़े कार्यक्रमों में किस-किस का नाम लेना है किसी को महत्व देना है क्या मुद्दे उठने हैं इनकी व्यापक तैयारी होती हैं। ऐसी तैयारियों के बीच भी अजीत पाल त्यागी का नाम राष्ट्रीय अध्यक्ष द्वारा बुलाया जाना ही अपने आप में पार्टी की ओर से एक तोहफा ही है। इससे यह भी स्पष्ट हो गया है कि मुरादनगर विधायक भाजपा में आगे तक पहुंच गए हैं। 


Comments