इस आपात की घड़ी में भी राशन डीलर कर रहे हैं अपनी मनमानी - चौधरी मनोज सरावत

इस आपात की घड़ी में भी राशन डीलर कर रहे हैं अपनी मनमानी - चौधरी मनोज सरावत



मुरादनगर। लोग कोरोना आपात से मुश्किलों में हैं। कुछ परिवार ऐसे भी हैं सहायता की आवश्यकता है सरकार लोगों की मदद के लिए राशन डीलरों के यहां खाद्यान्न भेज रही है लेकिन वह पात्र लोगों को नहीं मिल पा रहे। इस बारे में नगर पालिका परिषद के सभासद चौधरी मनोज सरावत टिंकल भैया ने उपजिलाधिकारी को पत्र भेजकर राशन डीलरों द्वारा की गई गड़बड़ी की जानकारी देते हुए बताया है कि राशन डीलर लोगों को कई घंटे धूप में लाइन में यह कहते हुए खड़ा करके रखते हैं कि नेट नहीं आ रहा, जिसके कारण लोगों को भरी धूप में भी लाइन में खड़े रहना पड़ रहा है। जिससे शारीरिक दूरी के नियम की धज्जियां उड़ रही हैं। टिंकल ने लिखा है कि सरकार द्वारा आपातकाल राहत के लिए भेजे जा रहे अनाज का भी राशन डीलर पूरी तरह से वितरण नहीं कर रहे। सरकार द्वारा प्रत्येक यूनिट 1 किलो चना भेजा गया है लेकिन डीलर किसी को नहीं दे रहे। उन्होंने पत्र में जानकारी दी है कि एक कॉलोनी में स्थित डीलर के यहां लोगों को चावल व गेहूं दिया जा रहा था। वह भी पूरा नहीं बांटने के लिए आया गया। चना डीलर ने लोगों को नहीं दिया।


सूचना मिलने पर खाद्य आपूर्ति अधिकारी सत्य प्रकाश मालवीय वहां दुकान पर पहुंचे और लोगों को चने का वितरण शुरू कराया। उन्होंने पत्र में मांग की है कि डीलरों की दुकान पर ऐसी व्यवस्था की जानी चाहिए कि उपभोक्ता को बिना नेट के भी सामान मिल सके तथा इस बात की भी जांच की जाए की राशन डीलर लोगों को बांटने के लिए आए सामान को उपभोक्ताओं को पूरी मात्रा में तथा यह भी ध्यान रखा जाए कि डीलर सरकार से आई चना दाल जैसे सामानों को सभी ग्राहकों को उपलब्ध करा रहे हैं या नहीं। इस बारे में ट्विंकल ने बताया कि लोगों को कई कई घंटे राशन डीलरों के यहां लाइनों में खड़ा होना पड़ता है। उसके बावजूद भी लोगों को पूरा सामान नहीं मिल रहा। 


Comments