पुलिस ने बेगुनाह युवक को फंसाया झूठे मुक़दमे में 

पुलिस ने बेगुनाह युवक को फंसाया झूठे मुक़दमे में 



वसीम उर्फ गोविंदा


मुरादनगर। पुलिसिया कार्यवाही पर अब सवाल उठने लगे हैं। एक व्यक्ति को नशे की गोलियां रखने के आरोप में पुलिस ने जेल भेज दिया था। इस मामले में पीड़ित पक्ष ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक व अन्य उच्चाधिकारियों को पत्र लिखकर उचित जांच व कार्यवाही की मांग करते हुए कहा है कि दिनांक 4 मई को थाना मुरादनगर पुलिस शाम 7:12 बजे पीड़ित के घर गई थी। वहां से मेरे भाई वसीम उर्फ गोविंदा को यह कह कर थाने ले गई थी कि उससे कुछ पूछताछ करनी है। अगले दिन उसको पता चला कि उसके भाई वसीम गोविंदा पर 150 ग्राम अल्प्राजोलम नशीला पाउडर लगाकर उपरोक्त अपराध में फर्जी बरामदगी दिखाते हुए चालान कर दिया। वसीम उर्फ गोविंदा की गिरफ्तारी भी थाना मुरादनगर पुलिस ने कहीं और की दिखाई है। 


भाई को जब मुरादनगर पुलिस ले गई थी तो उसकी रिकॉर्डिंग घर के पास लगे सीसीटीवी कैमरे में आ गई थी। फुटेज की रिकॉर्डिंग उनके पास है, जिससे यह साबित होता है कि उसके भाई को घर से उठाकर फर्जी बरामदगी दिखाते हुए उपरोक्त अपराध में चालान कर दिया है। ऐसी स्थिति एवं न्याय हित में उपरोक्त मामले की जांच किसी उच्च स्तरीय जांच एजेंसी से कराई जानी अति आवश्यक है। अभी तक पुलिस मनमर्जी किसी को भी ऐसे मामलों में जेल भेज देती थी और लोग चुप रह जाते थे। अब लोग पुलिस उत्पीड़न से त्रस्त होकर सामने आने लगे हैं। 


Comments