शहीद पत्रकार को नमन 

शहीद पत्रकार को नमन 



मुरादनगर। बलिया के फेफना में शहीद हुए कलमकार रतन सिंह कि हत्या से पत्रकारों में आक्रोश व भय है। यहां रेलवे रोड़ पर 2 मिनट का मौन धारण कर पत्रकारों ने श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए कहा कि सरकार पत्रकारों की रक्षा नहीं कर पा रही तो आम लोगों का क्या हाल होगा। 


श्रमजीवी पत्रकार संघ मुरादनगर के संरक्षक मंडल के सदस्य रणवीर गौतम ने भी इस भयावह घटना पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि बदमाश इतने बेलगाम हो गए हैं कि निस्वार्थ भाव से लोगों की सेवा करने वाले पत्रकार भी सुरक्षित नहीं है। इस बारे में सरकार को गंभीरता से विचार करते हुए पत्रकारों की सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए। इस बारे में सरकार जल्द ही कोई निर्णय ले जिससे पत्रकार स्वतंत्र रूप से अपना कार्य करते रहें। 


संरक्षक मंडल के ही अनिल मित्तल ने श्रद्धांजलि सभा समाप्त होने के बाद कहा कि पूरे प्रदेश में पत्रकारों पर अनाचार बढ़ा है। सरकार के कान पर जूं तक नहीं रेंग रही। सभी विभाग चाहते हैं कि पत्रकार उनके साथ सहयोग करके चलें। गलत कार्य का विरोध करने पर हत्या कर दिया जाना सरकार के लिए भी एक प्रश्न चिन्ह छोड़ रहा है कि क्या चौथे स्तंभ पत्रकार को लावारिस छोड़ दिया जाए। 


पुलिस प्रशासन का भी रवैया इस बारे में अच्छा नहीं है। सूचना देने, जानकारी लेने के लिए कोशिश करने पर अधिकारी उपलब्ध नहीं होते। हालांकि सरकार ने उनके परिवार को कई तरह की मदद की है लेकिन उन्हें कम से कम 50 लाख रुपए दिए जाएं। 


इस मौके पर श्रमजीवी पत्रकार संघ के अध्यक्ष चौधरी जितेंद्र सिंह कुंडू ने कहा कि पुलिस प्रशासन लोगों को गुमराह कर रहा है। दिवंगत पत्रकार की माताजी कह रही है कि उन्हें न्याय नहीं मिला। ऐसे में आवश्यकता है कि हमें अपने आप को स्थापित करने के लिए अभी कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी तथा अपने संगठनों को मजबूत करना पड़ेगा। प्रशासनिक विभाग के अधिकारी पत्रकारों के प्रार्थना पत्र मिलने के बाद भी उन्हें अनसुना कर देते हैं। पीड़ित फिर सोशल मीडिया या ऐसे प्लेटफार्म पर पहुंच जाते हैं जहां उनकी आवाज को सुना जा सके। 


श्रमजीवी पत्रकार संघ के संस्थापक मुकेश सोनी ने कहा कि हम समाज के सबसे पिछले छोर तक के लोगों की समस्याएं उपलब्धियां सरकार तक संबंधित विभाग तक पहुंचा सकें। जिससे समाज में प्रतिभाशाली छात्र भी अपनी प्रतिभाओं को संबंधित अधिकारियों के विभाग तक पहुंचा सकता है। 


इस मौके पर डॉक्टर एम ए मलिक, साजिद अली, नरेश कुमार, रजनीश शर्मा, मनीष गोयल, रामकिशन बंधु, अमित त्यागी, अमित तिवारी, पंडित हरिशंकर तिवारी, महमूद अली, तौसीफ हसन उर्फ गुड्डू, राशिद अली, प्रमोद शर्मा, गाजियाबाद बार एसोसिएशन के सचिव एडवोकेट विजय गौड़ व पूजा वर्मा, संरक्षक मंडल में राकेश, संदीप सिंघल, अनिल मित्तल, रामकिशन बंधू मनीष गोयल, अमित त्यागी, रजनीश शर्मा, साजिद खा, शहजाद मलिक, रोजूद्दीन, मोमिन, आसिफ उस्मानी, रानी आदि ने भी श्रद्धांजलि अर्पित की। संस्था ने निर्णय लिया है कि इस विषय में प्रदेश के मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर शहीद पत्रकार के परिवार को उचित सहायता व पत्रकारों की सुरक्षा के उपाय करने की मांग की जाएगी। 


Comments

Popular posts from this blog

अमेज़ॉन में हुआ काइट के 13 छात्रों का प्लेसमेंट, प्रत्येक छात्र को मिला 44.14 लाख का पैकेज

चेयरमैन सईउल्लाह खान ने कहा था न खाऊंगा न खाने दूंगा

कानूनी जागरूकता शिविर में छात्र छात्राओं ने दी कानून की जानकारी ग्रामीणों को जानकारी