वायरल बुखार के मरीज बढ़े, डरें नहीं डॉक्टर से सलाह लें - राधेश्याम दहिया

वायरल बुखार के मरीज बढ़े, डरें नहीं डॉक्टर से सलाह लें - राधेश्याम दहिया


 



मुरादनगर। कोरोना का कहर पहले से ही लोगों के सिर पर मौत बनकर मंडरा रहा है। अब क्षेत्र में बुखार तांडव मचा रहा है। डॉक्टरों के यहां बुखार पीड़ितों के पहुंचने की संख्या लगातार बढ़ रही है। हालात यहां तक खराब है कि एक ही परिवार में कई कई लोग बुखार के बीमार हैं लेकिन कोरोना की जांच आदि से बचने के लिए लोग डॉक्टरों के यहां कम पहुंच रहे हैं। मेडिकल स्टोर से बताई गई बुखार उतारने की दवा लेकर घरों में ही अपना इलाज कर रहे हैं। बड़े अस्पतालों ने पहुंचने वाले लगभग हर मरीज की कोरोना जांच अनिवार्य कर दी है। स्थानीय कुछ चिकित्सक जरूर लोगों को ऐसी सेवा दे रहे हैं कि उनका रोग भी खत्म हो जाए और कोरोना की जांच की आवश्यकता न पड़े। इन हालातों का सबसे ज्यादा लाभ गली मोहल्लों में बैठे झोलाछाप डॉक्टरों को हो रहा है क्योंकि मरीज बड़े अस्पताल जाने के झंझट से बचने के लिए आसानी से अपने प्राण उनके हाथों में सौंप देता है। 


इस बारे में वरिष्ठ चिकित्सक डॉ. राधेश्याम दहिया ने बताया कि इस मौसम में वायरल बुखार हो सकता है। कुछ मामलों में अन्य बीमारियों के कारण भी बुखार बन सकता है। उन्होंने कहा कि लोग भयभीत न हो। अनाधिकृत रूप से ली गई दवा न लेकर खुद इलाज न करें। डॉक्टर की सलाह अवश्य लेनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हर व्यक्ति को कोरोना नहीं हो सकता। इसलिए बिना डरे डॉक्टरों के पास जाएं। 


Comments