बाल दिवस बच्चों के अधिकारों, देखभाल और शिक्षा के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है - डॉ. मोहम्मद वसी बेग

बाल दिवस बच्चों के अधिकारों, देखभाल और शिक्षा के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है - डॉ. मोहम्मद वसी बेग


 



भारत में बाल दिवस 14 नवंबर को मनाया जाता है और इसे बाल दिवस के रूप में भी जाना जाता है। यह दिन बच्चों के अधिकारों, देखभाल और शिक्षा के बारे में लोगों में जागरूकता बढ़ाता है। बच्चे देश का भविष्य हैं। यह दिन भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की जयंती के रूप में मनाया जाता है। बाल दिवस बच्चों के अधिकारों, देखभाल और शिक्षा के प्रति लोगों में जागरूकता बढ़ाने के लिए मनाया जाता है। बच्चे देश का भविष्य हैं, सफलता और विकास की कुंजी जो देश को एक नए तकनीकी तरीके से आगे बढ़ाती है।


जवाहरलाल नेहरू के अनुसार, बच्चों को सावधानीपूर्वक और प्यार से पोषित किया जाना चाहिए, क्योंकि वे राष्ट्र और कल के नागरिकों के भविष्य हैं। वे देश की ताकत और समाज की नींव हैं। पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर 1889 को हुआ था। वह भारत के पहले प्रधानमंत्री थे जिन्होंने सबसे लंबे समय तक देश पर शासन किया था। वह शांति और समृद्धि के महान अनुयायी थे। पंडित जवाहरलाल नेहरू न केवल अपने राजनीतिक जीवन के लिए और देश की सेवा के लिए जाने जाते हैं, बल्कि बच्चों के बीच भी प्रसिद्ध थे।


जवाहरलाल नेहरू भी बच्चों से प्यार करते हैं और वे हमेशा उनके बीच रहना पसंद करते थे। भारत की स्वतंत्रता के बाद, उन्होंने बच्चों और युवाओं के लिए बहुत अच्छे काम किए। जब वे प्रधान मंत्री बने, उनकी पहली प्राथमिकता बच्चों की शिक्षा थी। पंडित नेहरू ने भारत के युवाओं के साथ-साथ बच्चों की शिक्षा, प्रगति, कल्याण और कल्याण के लिए बहुत काम किया। उन्होंने विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों जैसे भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान और भारतीय प्रबंधन संस्थान की स्थापना की थी। भारत में बच्चों को कुपोषण से बचाने के लिए स्कूली बच्चों को मुफ्त प्राथमिक शिक्षा, दूध सहित मुफ्त भोजन उपलब्ध कराया गया।


 


पंडित नेहरू के अनुसार, बच्चे देश का उज्ज्वल भविष्य हैं। सही शिक्षा, देखभाल और प्रगति से ही हम उन्हें एक नया जीवन दे सकते हैं। इसलिए, पंडित जवाहरलाल नेहरू (1964) की मृत्यु के बाद, उन्हें याद करने के लिए, भारत में उनके जन्मदिन की तारीख यानी 14 नवंबर को बाल दिवस के रूप में मनाया जाने लगा। इसलिए, बच्चों के प्रति चाचा नेहरू का गहरा प्रेम और उत्साह उनकी जयंती पर बाल दिवस मनाने का बड़ा कारण है। उन्होंने कहा कि बच्चे देश की वास्तविक ताकत हैं क्योंकि वे भविष्य में विकसित समाज बनाएंगे।


डॉ. मोहम्मद वसी बेग


अध्यक्ष, एनसीपीईआरटी, अलीगढ़


Comments