सफाई के नाम पर आभूषणों से सोना चांदी चोरी करने वाला गिरोह सक्रिय अनजान को न दें जेवर - लोकेश सोनी

सफाई के नाम पर आभूषणों से सोना चांदी चोरी करने वाला गिरोह सक्रिय अनजान को न दें जेवर - लोकेश सोनी





मुरादनगर। सावधान महिलाएं हैं जेवर चमकाने  के नाम पर क्षेत्र में ठग गिरोह के निशाने पर पुराना जेवर चंद सेकंडो में नया चमचमाता दिखने लगता है और खर्चे के नाम पर दस बीस पचास या फिर सौ रुपए  लगते हैं और यदि किसी महिला के पास पैसे न भी हों तो उधार में भी सोने चांदी के आभूषणों की सफाई हो जाती है। लेकिन जेवर से गंदगी के साथ कितना सोना चांदी साफ हो गया। इसका पता तब चलता है जब जेवर को किसी कारणवश सर्राफ की दुकान पर कांटे पर वजन कराया जाता है। कालोनियों में जेवर साफ करने के लिए ठग एक थैला लेकर पहुंचते हैं और सोने चांदी के आभूषणों  की सफाई करने की आवाज लगाते हैं। कभी-कभी यह राह चलती महिलाओं से भी आग्रह करते हैं कि आज किसी ने काम नहीं कराया। अगर आप अपने जेवर जिन्हें महिलाएं पहनी होती हैं। चैन कुंडल कड़े पाजेब की सफाई करा लें तो जेवर नए जैसा हो जाएगा और हमें चाय पीने तक के लिए पैसे मिलेंगे। 
कालोनियों में भी यह ठग गिरोह महिलाओं को इसी तरह से शिकार बनाता है। महिलाएं बहुत कम खर्च की बात तथा उसकी कुछ मदद के उद्देश्य से घर में रखे पुराने तथा पहने जा रहे जेवर साफ करने के लिए दे देती हैं। कुछ ही सेकंड में आभूषण नए की तरह चमचमाने लगता है। इस गिरोह के सदस्य आभूषण की सफाई के लिए उसे अपने पास मौजूद केमिकल में डाल देते हैं। उस केमिकल में सोना चांदी घुलनशील होते हैं क्योंकि वह धातु गलाने के तेजाबों का मिश्रण होता है। उसमें डालते ही आभूषण से सोना चांदी गल कर वह मिश्रण में मिल जाता है और आभूषण चमकदार हो जाता है। महिलाओं को पता भी नहीं चलता कि उनके जेवर से सोना चांदी कम कर दिए गए हैं। ऐसे कई मामले प्रकाश में आ चुके हैं। 10 ग्राम सोने की चैन 6 ग्राम की ही रह गई। वजन होने पर महिला को याद आता है कि आभूषण सुरक्षित रखे हुए थे लेकिन एक बार सफाई कराई थी। उसी सफाई में जेवर का वजन कम हो जाता है। 
इस बारे में सर्राफा व्यापार मंडल के अध्यक्ष लोकेश सोनी ने बताया कि ऐसे लोग अपने पास तेजाब रखते हैं। उससे सोना चांदी जेवर से उतार कर ले जाते हैं। एकदम किसी को पता भी नहीं चलता और एक प्रक्रिया के बाद वह तेजाब में घुली धातु को दोबारा उसके मूल रूप में बदल देते हैं। उन्होंने कहा कि अपने बहुमूल्य जेवर किसी अनजान व्यक्ति के हाथ में न दें। यथासंभव विश्वसनीय ज्वैलर के यहां कार्य कराएं जिससे इस तरह की ठगी की घटनाओं से बचा जा सके।
Comments