विधवा, वृद्ध व विकलांग पेंशन के लिए आय प्रमाण पत्र समाप्त किया जाए, धन राशि दुगनी की जाए - मनोज

विधवा , वृद्ध , विकलांग पेंशन के लिए आय प्रमाण पत्र समाप्त किया जाए, धन राशि दुगनी की जाए - मनोज




मुरादनगर। कोई आय का साधन ही नहीं फिर किस आय का प्रमाण पत्र दें। सरकार की  विधवाओं, वृद्धाओं व विकलांगों की मदद के लिए चलाई जा रही महत्वपूर्ण पेंशन योजना से बड़ी संख्या में पात्र वंचित हैं। उनकी आय किसी स्तोत्र से नहीं होती। इस वजह से उनका आय प्रमाण पत्र नहीं बन पाता। क्योंकि  आय प्रमाण पत्र बनवाने के लिए आय का कोई आधार दिखाना पड़ता है लेकिन वह उनके पास नहीं होता और तहसील से उन्हें आय प्रमाण पत्र नहीं मिल पाता। जिसके कारण योजना  का लाभ पात्र नहीं उठा पाते। नगर पालिका परिषद के सभासद मनोज चौधरी उर्फ़ ट्विंकल ने प्रदेश के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर मांग की है कि पेंशन के लिए आय प्रमाण पत्र की अनिवार्यता समाप्त की जाए। जिन लोगों को अन्य सरकारी सहायता सरकारी पेंशन नहीं मिल रही उन्हें बिना आय प्रमाण पत्र के पेंशन दिलाने का प्रावधान किया  जाए। उन्होंने मांग की है कि जिन वरिष्ठ नागरिकों की आयु 60 वर्ष हो चुकी है और उन्हें कहीं से पेंशन नहीं मिल रही उन्हें इस महत्वपूर्ण योजना में शामिल कराया जाए। 
अन्य प्रदेशों की तरह उत्तर प्रदेश में भी पेंशन ₹500 से बढ़ाकर 1000रु की जानी चाहिए। इस बारे में पालिका सभासद ने बताया कि नगर क्षेत्र में ही बड़ी संख्या में विकलांग वृद्ध विधवा पेंशन के पात्र हैं लेकिन आय प्रमाण पत्र न होने के कारण उन्हें योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा। इस बारे में एक सूची भी बना कर भेजी जाएगी।

Comments