जवानी को सार्थक करें- विनोद जिंदल

 जवानी को सार्थक करें- विनोद जिंदल 




मुरादनगर। व्यक्ति को जवानी जीवन में एक बार ही मिलती है। इसलिए उसे ऐसे सार्थक कार्यों में लगाना चाहिए जो औरों के लिए भी अनुकरणीय हो। यह कहना है नगर के प्रतिष्ठित व्यापारी शिक्षाविद विनोद जिंदल का। उन्होंने युवाओं के नाम एक संदेश में कहा है कि प्रत्येक व्यक्ति को जीवन में धन मिलता रहता है और नष्ट होता रहता है। नष्ट होने के बाद फिर से प्राप्त हो जाता है। परन्तु जवानी एक बार निकल जाए तो कभी वापस नही आती। अतः विपुल क्षमता, जोश एवं महाशक्ति से सम्पन्न यौवन का एक एक अमूल्य पल ऐसे सत्कर्मों में व्यय करना चाहिए कि शरीर समाप्त होने के बाद भी समाज और राष्ट्र हमें याद करता रहे। उन्होंने कहा कि हर बड़ी कामयाबी समय माँगती है। इसलिए धैर्य और हौंसले का साथ कभी नहीं छोड़ना चाहिए।

Comments