बैंकों के अधिकांश कर्मचारी संक्रमित लेनदेन प्रभावित

 बैंकों के अधिकांश कर्मचारी संक्रमित लेनदेन प्रभावित



मुरादनगर। अगर आप बैंक से रुपया निकालने जा रहे हैं और वह भी बड़ी धनराशि और नगद जमा करना है तो कुछ दिन रुक कर बैंक जाएं हो सकता है कि आपको आपके अकाउंट में रुपए जमा होने के बावजूद रुपए न मिल सकें और जमा करने वालों को भी बैंक से निराश होकर लौटना पड़ सकता है। जहां तक संभव हो बैंकों द्वारा स्थापित रुपए जमा करने वाली मशीन तथा एटीएम का इस्तेमाल करें। कोरोना की दूसरी भयावह लहर ने बैंक कर्मचारियों को भी बड़ी संख्या में अपनी चपेट में ले लिया है। 70% से अधिक बैंक कर्मी संक्रमित मिलने के बाद इलाज के लिए छुट्टी पर हैं। बड़ी-बड़ी शाखाओं की भी स्थिति खराब है पूरे स्टाफ में से 2. 3 कर्मचारी बैंक चला रहे हैं। कहीं-कहीं शाखा प्रबंधक एक सहयोगी के साथ बैंकिंग का पूरा कार्य देख रहे हैं। बैंकों में हर कार्य के लिए योग्य कर्मचारी होते हैं लेकिन इस समय वह अनुपस्थित हैं। इसलिए बहुत से कार्य बैंक में मौजूद कर्मी नहीं कर पाते जिससे लोगों को परेशानी होती है। आंशिक रूप से लगे लॉकडाउन के दौरान बैंकों में रुपए जमा करने वाले बहुत कम हो गए हैं जबकि निकासी के लिए उपभोक्ता बैंक पहुंच रहे हैं। बैंक जमा होने वाले कैश में से ही निकासी वालों को भुगतान करते हैं। विशेष परिस्थितियों में आवश्यकता पड़ने पर ट्रेजरी से कैश मंगाया जाता है। जमा करने वाले बहुत कम लोग हैं इसलिए बैंकों में नगद रुपयों की भी किल्लत हो गई है क्योंकि दो उपस्थित कर्मी ट्रेजरी से नगद रुपए मंगाने से बचते हैं क्योंकि उतना कार्य उनके लिए कठिन हो जाता है। इस बारे में आयुध निर्माणी स्थित भारतीय स्टेट बैंक के प्रबंधक अमर श्रीवास्तव ने बताया कि कम स्टाफ के बावजूद हमारा यह प्रयास रहता है कि उपभोक्ताओं को परेशानी न उठानी पड़े हर संभव कार्य करने का प्रयास किया जाता है। बैंक द्वारा रुपए जमा करने के लिए निकासी के लिए एटीएम की सुविधा भी दी जाती है। ऐसे समय में उनके इस्तेमाल की आवश्यकता है जिससे बैंक परिसरों में ज्यादा भीड़ एकत्र ना हो।
Comments