साहस व सहयोग बहुत जरूरी- विनोद जिंदल

 साहस व सहयोग बहुत जरूरी- विनोद जिंदल 


मुरादनगर। महामारी के दौर में सभी भय ग्रस्त हैं चारों ओर निराशा छाई हुई है| ऐसे में आपका साहस तथा दूसरों की सहायता करने की प्रवृत्ति काफी लाभप्रद हो सकती है| यह कहना है शिक्षाविद व्यवसायी विनोद जिंदल का उन्होंने  कहा कि बीमारी के लिए जितनी आवश्यक दवा है उतना ही आवश्यक सकारात्मक होना भी है| किसी जरूरतमंद की आवाज़ तुम तक पहुंचे तो परमात्मा का शुक्र जरूर अदा कीजिए क्योंकि उसने किसी की मदद के लिए आपको चुना हैं| वर्ना परमात्मा तो सबके लिए अकेला ही काफी हैं| जीवन एक अपार सम्भावनाओं की बहती नदी के समान है| यह आप पर निर्भर करता है कि आप बाल्टी लेकर खड़े हैं| या चम्मच ऐसे भयावह हालातों से निकलने के लिए साहस रखें दूसरों की सहायता करें| जिससे आप नकारात्मक दुनिया से बाहर निकलेंगे और सहायता पाने वालों के हौसले भी बढ़ेंगे|
Comments