श्मशान घाट पीड़ित परिवार बैठेंगे धरने पर

श्मशान घाट पीड़ित परिवार बैठेंगे धरने पर


मुरादनगर। श्मशान घाट हादसे से पीड़ित परिवारों की महिलाओं ने जिला अधिकारी राकेश कुमार सिंह से मुलाकात कर नौकरी हादसे की जांच व घोषित आवास सुविधा उपलब्ध कराने की गुहार लगाई। पीड़ित पक्ष की महिलाएं 1 दिन पूर्व ही किसान नेता राकेश टिकैत से मिलकर मदद की गुहार लगा चुकी हैं। उन्होंने भी उन्हें हर संभव मदद का आश्वासन दिया है महिलाएं जिलाधिकारी कार्यालय पहुंची। उन्हें एक प्रार्थना पत्र देते हुए मांगों को शीघ्र पूरा न करने पर अनिश्चितकालीन धरने की चेतावनी देते हुए बताया है कि 3 जनवरी 2021 नगर पालिका परिषद के भ्रष्टाचार से बनी छत गिरने से 25 लोगों की मौत हो गई थी। 3 जनवरी 2011 को नगर पालिका परिषद द्वारा उखलारसी में स्थित श्मशान घाट में नवनिर्मित एक बरांडा उस समय अचानक गिर गया। जब वहां बड़ी संख्या में लोग एक व्यक्ति के अंतिम क्रिया कर्म में भाग लेने के लिए गए थे। 24 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई थी एक घायल ने इलाज के दौरान अस्पताल में दम तोड़ दिया। लोगों द्वारा रोड जाम व अन्य विरोध प्रदर्शनों पर मौके पर पहुंचे उच्चाधिकारियों ने पीड़ित परिवारों के लोगों को आश्वासन दिलाया था कि उन्हें 10 लाख नगद आर्थिक सहायता तथा आवास के लिए मकान परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दिलाने का आश्वासन दिया था। इतना लंबा समय बीत जाने के बाद भी पीड़ित परिवारों को आर्थिक सहायता के अलावा नौकरी आवास नहीं मिले तथा मामले की जांच लखनऊ में एसटीएफ द्वारा की जा रही है। उसके बारे में भी कुछ जानकारी पीड़ितों को नहीं दी जा रही, उससे यह भी नहीं पता पड़ रहा कि उनसे अपनों अपनों को छीना किसने है। प्रतिनिधिमंडल में करीब 20 महिलाएं थी उन्होंने बताया कि जिलाधिकारी ने उन्हें आश्वासन दिया है कि उनकी समस्याओं का समाधान शीघ्र करने के प्रयास किए जाएंगे। जिलाधिकारी ने कहा कि पीड़ित पक्ष चाहे तो जांच लखनऊ से गाजियाबाद स्थानांतरित करा सकते हैं।

Comments