महिला को अमानवीय यातनाएं, शिकायत के बावजूद पुलिस ने नहीं की कार्रवाई

महिला को अमानवीय यातनाएं, शिकायत के बावजूद पुलिस ने नहीं की कार्रवाई



मुरादनगर। दबंग परिवार ने महिला के साथ मारपीट कर अमानवीय यातनाएं दी गई। जिसके कारण डॉक्टरों ने और उसके गर्भाशय को निकालने की आवश्यकता बताई है। पेट तथा गुप्तांगों पर लातों से वार करने के कारण महिला के गुप्तांग बुरी तरह घायल हैं तथा चोट लगने के कारण बच्चेदानी की स्थिति भी ऐसी हो गई है कि उसे ऑपरेशन कर निकालना पड़ेगा। जिसके कारण महिला भविष्य में मां नहीं बन पाएगी।

इस बारे में थाने में कविता कश्यप पत्नी सोमपाल कश्यप निवासी रावली रोड़ जीतपुर ने शिकायत दर्ज कराई थी। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं होने के बाद उसने दोबारा थाने में न्याय की गुहार लगाते हुए कहा है कि पडोस में हाफिज का परिवार रहता है, जो कि अपराधिक किस्म के व्यक्ति है। आये दिन उसके साथ दुर्व्यवहार मारपीट करता रहता है। क्योकि उसके पति गाड़ी पर हेल्पर है जिसके कारण उसे अधिकांश समय घर से बाहर गाड़ी पर ही रहना पड़ता है। वह अपने बच्चो के साथ अकेली रहती है, पड़ोस में रहने वाला हाफिज मेरी पुत्री शिवानी पर गलत नजर रखता है। इस बात की शिकायत उसने हाफिज की पत्नी से की तो उसने उल्टा उसे ही गाली गलौच तथा मारपीट पर उतारू हो गयी।

  02.07.2021 रात्रि लगभग 9:00 बजे जब वह अपने बच्चों के साथ अकेली थी। हाफिज व उसका परिवार उसके के घर में घुस आए, उसके बाल पकडकर घसीटते हुए बाहर ले आये। हाफिज की पत्नी तथा हाफिज की पुत्री ने उसे इस तरह पकड़ रखा था कि वह अपने आप को नहीं छुडा पा रही थी। हाफिज ने उसके के गुप्तांग पर लात ही लात मारी तथा पेट में घूसे मारे और छाती में अपने सिर से जोरदार टक्कर मारी। हाथ में लिये डंडे से गुप्तांग पर प्रहार किया जिससे वह दर्द से तडप उठी। हाफिज की पत्नी व पुत्री ने उसका की चुन्नी से गला दबाया जिससे निकल चीख निकल गई, तथा उसकी पुत्री भी बचाने के लिए चिल्लाने लगी। वहां आसपास के लोग एकत्र होने लगे, जिस पर हमलावर अपने आप को घिरा हुआ देख हाथो मे डंडे लहराते यह कहते हुए भाग खड़े हुए कि आज तू लोगों की वजह से बच गई है, लेकिन जिस दिन भी मौका लगेगा तुझे मौत के घाट उतार दिया जाएगा।

उसके बाद हालत बिगड़ने के कारण वह बेहोश हो गई। पडोस के किसी व्यक्ति ने 112 नम्बर पर कॉल करके पुलिस को बुला लिया, पुलिस ने कहा कि इसे किसी अस्पताल के भर्ती करा दो जिस पर उसे एक अस्पताल में होम में भर्ती करा दिया। जहाँ पर डाक्टर द्वारा जाँच करने पर पता चला कि उसके गुप्तांग में गम्भीर चोट आई है। बच्चेदानी में भी गम्भीर चोट व सूजन आई है। उसने अपने पति सोमपाल को अगले दिन घर आने पर बताई सारी घटना की जानकारी दी। एक शिकायत पत्र सम्बन्धित थाने में दिया, परन्तु हमारा शिकायत पत्र नहीं लिया और हमे वहाँ से वापस भेज दिया। डाक्टर ने अल्ट्रासाउन्ड करके बताया कि बच्चेदानी का ऑपरेशन करके बच्चेदानी निकालनी पड़ेगी। हमारे शिकायत पत्र पर कोई कार्यवाही नहीं हो रही हैं, और उक्त लोग धमकी दे रहे है तुझे व तेरे परिवार को मौका मिलते ही मौत के घाट उतार देंगे। पुलिस महिला उत्पीड़न के मामलों में कार्यवाही न कर पीड़ितों को थाने से चलता कर देती है। जिसके कारण कई बार गंभीर घटनाएं हो जाती हैं पीड़िता के पति ने बताया कि उन्हें तरह-तरह से धमकाया जा रहा है लेकिन पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की है। 

Comments