गांव में नहीं है एक भी स्कूल - लोकेश एडवोकेट प्रधान रघुनाथपुर जलालपुर

गांव में नहीं है एक भी स्कूल - लोकेश एडवोकेट प्रधान रघुनाथपुर जलालपुर


मुरादनगर। गाजियाबाद जिले के गांव रघुनाथपुर जलालपुर में एक भी सरकारी स्कूल नहीं है। मुरादनगर से सटे मेरठ दिल्ली हाईवे से कुछ ही दूरी पर स्थित गांव में समस्याओं का अंबार है। एक भी स्कूल न होने के कारण आर्थिक रूप से कमजोर लोग बच्चों को प्राइवेट स्कूलों में शिक्षा दिलाने में असमर्थ हैं, उसके लिए एक स्कूल की भी दरकार है। इस बारे में गांव के प्रधान लोकेश कुमार एडवोकेट ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर गांव को विशेष श्रेणी में रखते हुए। यहां की समस्याओं के निस्तारण कराने का अनुरोध करते हुए कहा है कि नव विकसित कॉलोनियों में बिजली कनेक्शन लोगों ने ले रखे हैं। लेकिन पर्याप्त मात्रा में खंबे न होने के कारण लोगों के अन्य लोगों के विद्युत कनेक्शन नहीं हो पा रहे। जिन लोगो ने कनेक्शन ले रखे है उन लोगो ने लम्बे-लम्बे बिजली के केबल डाले हुए हैं। तारो की अधिक दूरी न होने के कारण केवल में आग लगती रहती है। बिजली लाइन टूटने के कारण हादसों की आशंका बनी रहती है। सम्बन्धित विभाग के अधिकारियों को सूचना दी जा चुकी है किन्तु कोई कार्यवाही नहीं की गयी है। गाँव के बाहर एक जोहड़ तालाब है जिसकी सफाई आज तक नहीं हो पायी है। गाँव का गन्दा व दूषित पानी जोहड में भरा रहता है, जोहड में पानी भरे रहने के कारण आस-पास के लोगो के पीने का पानी दूषित हो गया है। जिसके कारण संक्रामक रोग फैलने का खतरा भी हो गया है, जोहड का सौंदर्य करण होना चाहिए।

पत्र में आगे जानकारी दी गई है कि जलालपुर रघुनाथपुर ब्लॉक-मुरादनगर का ग्राम सभा सहबिस्वा माजरा था किन्तु अब ग्राम सहविश्वा को अलग से ग्राम पंचायत बना दी गयी है। जिस कारण गाँव में बने स्कूल सहबिस्वा में चले गये हैं जिनकी तत्काल रख-रखाव व देखभाल ग्राम सहबिस्वा कर रहा है। जनहित में गांव में स्कूल खुलना अतिआवश्यक है गाँव में युवाओं को पढाई के लिए प्रेरित करने के लिये लाईब्रेरी स्थापित की जानी चाहिए।

पंचायत घर आंगबाड़ी भवन नहीं बनाया गया है गाँव में पूर्व प्रधान द्वारा व्यक्ति विशेष की व्यक्तिगत भूमि पर बारात घर बनाया गया है जो कि अब विवादित है। उक्त बारात घर के सम्बन्ध में माननीय न्यायालय में मुकदमा विचाराधीन है। जिस कारण गाँव में कोई बारात घर नहीं है बारात घर का निर्माण 

गांव में शुद्ध पेयजल की बड़ी समस्या है। जिस देखते हुए दस हैडपम्प लगाये जाने आवश्यक हैं पानी की टंकी का निर्माण कराया जाना जी.टी. रोड से लेकर पाईप लाईन तक जो रास्ता गया है। जिस सड़क का निर्माण लोक निर्माण विभाग गाजियाबाद द्वारा करा गया सड़क टूटकर गड्ढों में तब्दील हो गई है जबकि वहां से हजारों लोगों को रोज गुजरना पड़ता है। लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। लोक निर्माण विभाग द्वारा बनाई इस सड़क के विषय में विभागीय अधिकारियों को कई बार पत्र लिखा जा चुका है। लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई इस बारे में ग्राम प्रधान लोकेश कुमार ने बताया कि उन्हें आशा ही नहीं विश्वास है कि मुख्यमंत्री उन्हें निराश नहीं करेंगे।


Comments