थाना प्रभारी अपने थाने का ही पता नहीं रख पा रहे हैं, वह क्षेत्र का ख्याल कैसे रखेंगे

थाना प्रभारी अपने थाने का ही पता नहीं रख पा रहे हैं, वह क्षेत्र का ख्याल कैसे रखेंगे



मुरादनगर। पुलिस के उच्चाधिकारी चाहते हैं कि किसी भी क्षेत्र में चल रही गतिविधियों तथा प्रत्येक अपराधी सम्मानित व्यक्तियों के बारे में पूरी जानकारी रखें। लेकिन मुरादनगर पुलिस उच्चाधिकारियों के आदेशों के ठीक उल्टे चल रही है पूरे क्षेत्र की जिम्मेदारी थाने के मालिक कोतवाल को अवश्य होनी चाहिए क्योंकि विभाग ने उन्हें बहुत से सहयोगी दिए हैं। थाने हवालात में बंद लोगों के बारे में मुरादनगर थाना प्रभारी निरीक्षक राम सिंह को पता ही नहीं रहता कि उनके थाने में कौन क्यों बंद है। पुलिस वाले लोगों को छोटे-मोटे मामलों में थाने लाकर सेटिंग कर रफा दफा कर देते हैं, तो इसलिए पुलिसकर्मी थाना प्रभारी निरीक्षक को भी यह बताना जरूरी नहीं समझते किस थाने में कौन बंद है और कौन फरियादी आया है। पुलिस ने गांव सहविश्वा क्षेत्र से एक नाबालिग किशोर को उठाया बताया गया कि उसके पास से तमंचा बरामद हुआ है। माता-पिता परिचय संबंधित चुंगी नंबर 3 प्रभारी से जानकारी लेने पहुंचे तो उन्होंने उन्हें थाने जाने की सलाह दी। उन्हें 2 दिन तक यह जवाब नहीं दिया गया कि किशोर को किस आरोप में उठाया गया है। पीड़ित पक्ष ने मीडिया कर्मियों से संपर्क साधा उन्होंने थाना प्रभारी से हिरासत में दिए गए किशोर के बारे में जानकारी चाही जिस पर जिस पर थाना प्रभारी निरीक्षक का जवाब हैरान परेशान करने वाला था। उन्होंने कहा कि थाने में कौन किस लिए बंद है इस बारे में मुझे जानकारी नहीं है। पता करके बताऊंगा जो थाना प्रभारी अपने थाने का ही पता न रख सके वह क्षेत्र का कैसे रखेंगे। इस बारे में कई लोगों ने बताया कि पुलिस लोगों को उठाकर ले जाती है कई कई दिन बाद छोड़ा जाता है या खेल खेलकर धाराओं में उलझा दिए जाते हैं।

Comments