समाजवादी पार्टी तथा राष्ट्रीय लोक दल के गठबंधन की चर्चा, किसकी झोली में जाएगी विधानसभा की सीट
समाजवादी पार्टी तथा राष्ट्रीय लोक दल के गठबंधन की चर्चा, किसकी झोली में जाएगी विधानसभा की सीट


मुरादनगर। समाजवादी पार्टी तथा राष्ट्रीय लोक दल के गठबंधन की चर्चाओं के बीच दोनों ही पार्टियों के नेता कार्यकर्ता असमंजस की स्थिति में हैं। अभी तक गठबंधन की अधिकारिक घोषणा रालोद या सपा ने नहीं की है लेकिन किसान आंदोलन के दौरान ग्राम पंचायत चुनावों में दोनों ही पार्टियों ने क्षेत्र में अपनी जोरदार उपस्थिति दर्ज कराई है। मुरादनगर विधानसभा सीट से सपा तथा राष्ट्रीय लोक दल दोनों ही पार्टियों के नेता चुनाव लड़ने के लिए लोगों का मन टटोल रहे हैं लेकिन अभी असमंजस इस बात को लेकर है कि यह सीट राष्ट्रीय लोक दल के पास रहेगी या फिर समाजवादी पार्टी अपना प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारेगी। राष्ट्रीय लोक दल मुरादनगर विधानसभा सीट को अपनी मानती है यहां से स्वर्गीय प्रेम सिंह प्रमुख लोक दल के टिकट विधानसभा पहुंचे थे। पहले हुए कई विधानसभा चुनावों में यहां पार्टी का प्रत्याशी चुनाव लड़ता रहा है। मुरादनगर सीट इसलिए भी खास हो जाती है कि एक चुनाव में पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वर्गीय चौधरी अजीत सिंह ने स्वयं पार्टी प्रत्याशी के लिए क्षेत्र में घर-घर गांव गांव वोट मांगे थे। इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि राष्ट्रीय लोकदल के लिए यह सीट कितनी महत्वपूर्ण है। लेकिन राजनीति में कब क्या हो जाए कुछ कहा नहीं जा सकता। कार्यकर्ताओं को हाईकमान के निर्देश का इंतजार है अब वह सपा से मिले या राष्ट्रीय लोक दल से यह आने वाला समय ही बताएगा। हालांकि विधानसभा चुनाव होने में अभी कई महीने का समय है लेकिन चुनाव लड़ने के उत्सुक नेता स्थिति स्पष्ट न होने के कारण अभी जनता के बीच जाने में संकोच कर रहे हैं। क्योंकि अभी उन्हें ही पता नहीं है कि सीट किस पार्टी के हिस्से में रहेगी। राष्ट्रीय लोकदल के पास इस सीट को अपने पास रखने के लिए बड़ी संख्या में जाट वोट के साथ ही मुस्लिमों का समर्थन भी पार्टी को मिला था और यही समीकरण सीटों के बंटवारे के समय भी ध्यान में रखे जाएंगे। इस बारे में राष्ट्रीय लोक दल के वरिष्ठ नेता चौधरी जितेंद्र सिंह कुंडू ने बताया कि कार्यकर्ता उत्साहित हैं लेकिन जो भी निर्णय शीर्ष नेतृत्व लेगा पार्टी कार्यकर्ता उसी के अनुसार कार्य करेंगे।

Comments