न्याय नौकरी आर्थिक सहायता की मांग को लेकर मृतकों के परिजनों ने किया धरना प्रदर्शन

न्याय नौकरी आर्थिक सहायता की मांग को लेकर मृतकों के परिजनों ने किया धरना प्रदर्शन




मुरादनगर। न्याय, नौकरी व आर्थिक सहायता की मांग को लेकर मृतकों के परिजनों ने नगर पालिका परिषद कार्यालय पर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया है। श्मशान घाट में भ्रष्टाचार के कारण जान गवाने वाले लोगों के परिवारों की महिलाओं का दर्द गुस्सा फूट गया। श्मशान घाट पहुंचते ही उस समय का मंजर याद आते ही महिला ममता बेहोश होकर गिर गई। एक महिला की धरने के दौरान नगर पालिका कार्यालय पर तबीयत खराब हो गई। वहीं राजनीतिक दलों ने भी धरने को समर्थन देने की घोषणा की है। 3 जनवरी 2021 को उखलारसी स्थित श्मशान घाट में नए बने बरांडे की छत गिरने से अपनों को जान गवा चुके परिवारों की महिलाएं पहले श्मशान घाट पर दीप जलाकर मरने वालों को श्रद्धांजलि देने के लिए पहुंची। वहां पहुंचते ही एक महिला बेहोश होकर गिर गई जिसे किसी तरह से होश में लाया गया। उसके बाद सभी महिलाएं उनके परिजन जुलूस के रूप में  नगर पालिका परिषद कार्यालय पर  पहुंचे और अपनी मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन किया। पीड़ित परिवारों ने मांग उठाई कि  उखलारसी श्मशान घाट नगरपालिका के भ्रष्टाचार के कारण जान गंवाने वालों के परिवारों को न्याय, नौकरी व आर्थिक सहायता 50 लाख की जाए। श्मशान घाट में 24 लोगों की मौत हो गई थी तथा 2 दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए थे, जिनमें से एक व्यक्ति की उपचार के दौरान मौत हो गई थी।  जिनकी संख्या अब 25 हो गई है और घायल अपना उपचार करा रहे हैं। 
अधिकारियों द्वारा किए वादों को पूरा कराने के सैकड़ों लोग और महिलाएं नगर पालिका परिषद कार्यालय पर पहुंची। जहां तहसीलदार अधिशासी अधिकारी ने उन्हें ठेकेदारी में कार्य दिलाने का आश्वासन दिया लेकिन महिलाओं ने वादे के अनुसार सरकारी नौकरी देने व अन्य मांगों को लेकर धरने पर बैठ गई है। महिलाओं का कहना है एक साल होने को आ रहा है लेकिन अभी तक भी उन्हें न्याय नहीं मिला है। वह    अपनी मांगों को लेकर मुख्यमंत्री से लेकर उच्च अधिकारियों से गुहार लगा चुके हैं। इसके बावजूद भी अभी तक उनकी मांगों को पूरा नहीं किया गया है। अपने परिवार के 4 सदस्यों पुत्र देवर पति ससुर को खो देने वाली महिला का कहना था कि अधिकारियों सत्ताधारी पार्टी के नेताओं ने उस समय समुचित आर्थिक सहायता परिवार के एक सदस्य को नौकरी तथा दोषियों को दंड दिए जाने का आश्वासन दिया था। क्योंकि उस समय मृतकों के परिजनों ने हाईवे पर मृतकों के शव रख जाम लगा दिया था। लेकिन इतना समय बीत जाने के बाद भी किसी ने उनकी सुध नहीं ली है। उस समय वहां का माहौल भावुक हो उठा जब महिला अपने परिवार के चार लोगों के असमय जाने की जानकारी देते हुए फफक फफक कर रोने लगी।
धरना प्रदर्शन करने वालों में पुष्प लता, निधि सोनी, पिंकी, कविता, ममता, रजनी, नीलम मनीषा, मंजू, अंजू आदि शामिल रहे। 
धरना प्रदर्शन को देखते हुए थाना प्रभारी सतीश कुमार भारी पुलिस फोर्स के साथ नगर पालिका परिषद में मौजूद रहे। इसके अलावा तहसीलदार मोदीनगर हरी प्रताप सिंह अधिशासी अधिकारी अभिषेक कुमार आदि शामिल रहे। राष्ट्रीय लोक दल के विधानसभा क्षेत्र अध्यक्ष पंडित अरुण शर्मा अपनी टीम के साथ धरना स्थल पर पहुंचे और महिलाओं को उनकी लड़ाई में सहयोग का आश्वासन देते हुए उनका मांग पत्र पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत चौधरी को पहुंचा उनसे भी सहायता दिलाने के बारे में कहा महिलाओं ने बताया कि अधिकारी उनसे धरना समाप्त करने का दबाव बना रहे हैं लेकिन वह अपनी मांगे पूरी कराए बिना चैन से नहीं बैठेंगे।

Comments

Popular posts from this blog

अमेज़ॉन में हुआ काइट के 13 छात्रों का प्लेसमेंट, प्रत्येक छात्र को मिला 44.14 लाख का पैकेज

चेयरमैन सईउल्लाह खान ने कहा था न खाऊंगा न खाने दूंगा

कानूनी जागरूकता शिविर में छात्र छात्राओं ने दी कानून की जानकारी ग्रामीणों को जानकारी