आर्थिक सहायता की मांग को लेकर महिलाओं का धरना प्रदर्शन जारी

आर्थिक सहायता की मांग को लेकर महिलाओं का धरना प्रदर्शन जारी




मुरादनगर। नौकरी दोषियों की संपत्ति नीलाम करा कर पीड़ित परिवारों को आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई जाए, तथा अन्य सभी मांगों पर भी सहानुभूति पूर्वक विचार किया जाए। नगर पालिका कार्यालय पर अपनी मांगों को लेकर धरना दे रही महिलाओं तथा मृतकों के परिजनों ने मांगे शीघ्र ही पूरी न कराए जाने पर अनिश्चितकालीन धरने की चेतावनी दी है। इस बारे में आंदोलनरत महिलाओं ने प्रेस व अधिकारियों को संबोधित ज्ञापन  देकर कहा है कि जिला गाजियाबाद के मुरादनगर स्थित उखलारसी शमशान घाट जिसमें 3 जनवरी 2021 को नगर पालिका द्वारा बनाया गया। बरांडा गिरने के कारण हमारे परिवारों के 25 लोगों जान चली गई थी। आगे कहा गया है कि हम 29 नवंबर से यहां अपनी इन मांगो

 1. मृतकों के परिवारों से एक सदस्य को योग्यता अनुसार सरकारी सेवा में लिया जाए।

2. घटना के लिए जिम्मेदार दोषियों के नाम शीघ्र सामने लाए जाएं जैसा कि प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री अपराधियों की संपत्ति नीलाम कर पीड़ितों को आर्थिक सहायता दे रह रहे हैं। इस घटना के लिए जिम्मेदार लोगों की समस्त संपत्ति नीलाम करा कर उसकी रकम पीड़ितों को आर्थिक सहायता के रूप में दी जाए। 

3. परिवारों को आश्वासन के अनुसार मकान उपलब्ध कराए जाएं। 

4. तथा अभी तक जिन घायलों का इलाज चल रहा है उनके उचित इलाज की व्यवस्था की जाए क्योंकि आर्थिक तंगी की वजह से वह ठीक तरह से अपना इलाज नहीं करा पा रहे हैं। 

5. बच्चों की इंटरमीडिएट से आगे की पढ़ाई के लिए सहायता दिया जाना भी आवश्यक है।

यदि हमारी इन मांगों पर शीघ्र ही सहानुभूति पूर्वक विचार कर हमें न्याय नहीं दिया गया तो मजबूरन धरने को अनिश्चितकालीन कर दिया जाएगा जिसकी समस्त जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी। ज्ञापन पर 2 दर्जन से अधिक महिलाओं के हस्ताक्षर हैं। पूर्व विधायक सुरेंद्र कुमार मुन्नी ने धरना स्थल पर पहुंच महिलाओं का समर्थन करते हुए कहा कि वह उनकी लड़ाई में पूरी तरह साथ हैं जितनी भी मदद कर सकते हैं वह करेंगे। उनके साथ सतबीर गुप्ता अलीमुद्दीन कस्सार अरुण पंडित साजिद मंसूरी संजय सिंह सद्दाम हुसैन आदि मौजूद रहे।

Comments

Popular posts from this blog

अमेज़ॉन में हुआ काइट के 13 छात्रों का प्लेसमेंट, प्रत्येक छात्र को मिला 44.14 लाख का पैकेज

चेयरमैन सईउल्लाह खान ने कहा था न खाऊंगा न खाने दूंगा

कानूनी जागरूकता शिविर में छात्र छात्राओं ने दी कानून की जानकारी ग्रामीणों को जानकारी