मृतकों के परिजनों को दी गई सहायता राशि में भी घोटाला, शिवसेना ने दिया समर्थन

मृतकों के परिजनों को दी गई सहायता राशि में भी घोटाला, शिवसेना ने दिया समर्थन




मुरादनगर। उखलारसी श्मशान घाट पीड़ितों को शुरू से ही ठग रही है सरकारी मशीनरी। मृतकों के परिजनों को आर्थिक सहायता 50 लाख देने थे उस पर तत्कालीन पुलिस महा निरीक्षक ने उच्चाधिकारियों से वार्ता कर उसकी अनुमति लेकर लिखित आश्वासन पत्र भी दिया था। लेकिन 50 लाख की स्वीकृति वाले पत्र पर 50 लाख रुपए काटकर बाद में उसे 10 लाख ओवर राइटिंग में लिखा गया। मामले को दबाने के लिए अधिकारी उस समय वादे कर गए लेकिन किए गए एक भी वादे को पूरा नहीं किया गया और जो देना था 50 लाख उसमें भी 10 लाख दिए गए। गरीबों को मिलने वाली सहायता राशि में भी घपला कर दिया गया। इस विषय में शिवसेना के प्रांतीय अध्यक्ष महेश कुमार आहूजा के नेतृत्व में शिवसेना का एक प्रतिनिधिमंडल महिलाओं के आंदोलन को लेकर जिलाधिकारी से मिला और महिलाओं की मांगों को शीघ्र पूरा करने न्याय दिलाने की मांग को लेकर आंदोलन को समर्थन देने की घोषणा की। जिलाधिकारी के नाम दिए ज्ञापन में कहा गया है कि 3 जनवरी 2021 को नगर पालिका परिषद द्वारा निर्मित बरांडा वहां अंतिम संस्कार कराने गए लोगों के ऊपर गिर पड़ा जिसके कारण 25 लोगों की मृत्यु तथा दर्जनों लोग घायल हुए थे। इस हादसे की पूरी जिम्मेदारी नगर पालिका परिषद की थी क्योंकि उसी के द्वारा कराए जा रहे कार्य के द्वारा इतनी बड़ी जनहानि हुई। उस समय मृतकों के परिजनों को 50 लाख नगद आर्थिक सहायता परिवार के एक सदस्य को योग्यता अनुसार नौकरी, बच्चों की उच्च शिक्षा तथा दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई घायलों के इलाज में सहायता का आश्वासन दिया गया था। लेकिन यह चिंता का विषय है कि महिलाएं 29 नवंबर से धरने प्रदर्शन के बाद भी उनकी ओर कोई सकारात्मक कदम नहीं उठाया गया और अब वह भूख हड़ताल के लिए विवश हैं। इससे लगता है कि प्रशासन मानवीय संवेदनाओं को भी भूल चुका है। जिनके अपने चले गए उनको न्याय की लड़ाई लड़नी पड़ रही है। नगर पालिका परिषद कार्यालय पर भूख हड़ताल जारी है अभी तक महिलाओं को सरकार की ओर से सकारात्मक कदम उठाने के संकेत भी नहीं मिले हैं। ऐसे में आंदोलन अभी और जारी रह सकता है।



Comments

Popular posts from this blog

अमेज़ॉन में हुआ काइट के 13 छात्रों का प्लेसमेंट, प्रत्येक छात्र को मिला 44.14 लाख का पैकेज

चेयरमैन सईउल्लाह खान ने कहा था न खाऊंगा न खाने दूंगा

कानूनी जागरूकता शिविर में छात्र छात्राओं ने दी कानून की जानकारी ग्रामीणों को जानकारी