पुलिस प्रशासन की बड़ी लापरवाही, नहीं हुआ पवन शर्मा की मौत का खुलासा

पुलिस प्रशासन की बड़ी लापरवाही, नहीं हुआ पवन शर्मा की मौत का खुलासा


गाजियाबाद। पुलिस प्रशासन की एक बड़ी लापरवाही सामने आई। 4 जनवरी को दोपहर के समय 12 बजे के करीब ठेकेदार पवन शर्मा नामक व्यक्ति अपने घर से, लक्ष्मी नगर दिल्ली में रहने वाले चार्टेर्ड अकाउंट से मिलने के लिए निकला था। देर रात तक ठेकेदार पवन जब घर वापस नहीं लौटा तो उसकी पत्नी ने फोन किया। पवन का फोन किसी अन्य व्यक्ति ने उठाया और उसके एक्सीडेंट की जानकारी दी थी। 6 जनवरी को हापुड़ पुलिस ने ट्विटर पर भी सूचना डाली। 


गौरतलब हो कि एक व्यक्ति 4 तारीख में लापता हुआ। जिसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट कविनगर थाने में कराई। परिवार के बार-बार पुलिस से गुहार लगाने के बावजूद भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। उस शख्स की गला दबाकर हत्या कर पास के जिले हापुड़ नहर में फेंक दी गयी। उसके बाद पवन शर्मा का शव पास के जिले हापुड़ में मिला और उसका लावारिस में अंतिम संस्कार कर दिया गया। पवन शर्मा गाजियाबाद के थाना कवि नगर इलाके का रहने वाला था, जो कि सरकारी कांट्रेक्टर था।
परिजनों का मानना है अगर पुलिस तुरंत कार्रवाई करती तो शायद कम से कम पवन शर्मा का पार्थिव शरीर उनको देखने को ही मिल जाता। वहीं पुलिस का दावा है कि उन्होंने अपनी तमाम टीमें पवन शर्मा के कातिल के लिए लगा रखी है। 
दूसरी तरफ एसएसपी गाजियाबाद कलानिधि नैथानी ने 12 तारीख को थाना लोनी में व्यापारी की पत्नी की हत्या का 72 घंटे में खुलासा करने पर पुलिस टीम को ₹20000 इनाम देने की घोषणा की है। लेकिन पवन शर्मा की हत्या कैसे और किसने की, यह पुलिस ने अब तक पता नहीं लगाया। अब देखना यह है कि ठेकेदार पवन शर्मा की हत्या का खुलासा गाजियाबाद पुलिस कितने समय में करेगी और पीड़ित परिवार को कब तक न्याय दिलाने में सफल होती है।


Comments