भारत की जनगणना 2021 को लेकर की गई बैठक आयोजित

भारत की जनगणना 2021 को लेकर की गई बैठक आयोजित


गाजियाबाद। जिला अधिकारी अजय शंकर पांडेय के निर्देशन में अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व यशवर्धन श्रीवास्तव की अध्यक्षता में आज भारत की जनगणना 2021 विषयक सामान्य विवरण एवं प्रारंभिक तैयारियों के संबंध में कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक आयोजित हुई।



इस अवसर‌ पर उन्होंने समस्त जिला स्तरीय अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि जनगणना 2021 को गंभीरता से लेते हुए अपने कार्य क्षेत्रों मे जनगणना के प्रति जागरूक एवं सजग रहें ताकि कोई भी व्यक्ति इस जनगणना से बच न पाए। उन्होंने बताया कि भारत की जनगणना 2021 वर्ष 1872 के पश्चात से अबाध श्रंखला मे 16वीं और स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद की आठवीं जनगणना होगी। जनगणना आम आदमी के लाभ के लिए विभिन्न कल्याणकारी कार्यक्रमों की योजना बनाने के लिए आधारभूत सूचनाएं उपलब्ध कराती है।



उन्होंने कहा कि देश में जनसंख्या के विभिन्न पहलुओं से संबंधित आंकड़ों का मुख्य स्रोत जनगणना ही है। इसके माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों के लिए सबसे छोटी इकाई- राजस्व ग्राम तथा नगरीय क्षेत्रों के लिए वार्ड स्तर के विभिन्न प्रकार के जनांकिकीय, आर्थिक एवं सामाजिक आंकड़े एकत्रित किए जाते हैं। जनगणना कार्य निष्पादन के दौरान विभिन्न प्रकार के आवासीय व गैर आवासीय ढांचों की भी सूचीबद्ध किया जाता है साथ ही परिवारों को उपलब्ध सुविधाएं तथा जनसंख्या से संबंधित आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक, प्रवास एवं प्रजननता संबंधी विवरण भी एकत्रित किए जाते हैं। जनगणना के तहत एकत्रित सूचनाओं के आधार पर ही संसदीय/विधानसभा क्षेत्रों, पंचायतों और अन्य स्थानीय निकायों में सीटों की संख्या का निर्धारण किया जाता है।


उन्होंने बताया कि विगत जनगणनाओं की भांति भारत की जनगणना 2021 का कार्य भी दो चरणों में निष्पादित किया जाना है। प्रथम चरण में 16 मई से 30 जून 2020 तक मकानसूचीकरण एवं मकानों की गणना तथा राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर अद्यतन करने का कार्य एवं दूसरे चरण में प्रगणना (जनसंख्या की गणना) का कार्य किया जाना है। अपर जिलाधिकारी ने सभी संबंधित अधिकारियों को सरकार की मंशा के अनुरूप जनगणना कार्य संपन्न कराने के उद्देश्य से तैयारी करने के निर्देश दिए हैं।


Comments