बीएससी की छात्रा प्रियंका सोनी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर की और ठोस कदम उठाने की मांग 

बीएससी की छात्रा प्रियंका सोनी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर की और ठोस कदम उठाने की मांग 


मुरादनगर। "बिन वह प्रीत न होय" गुसाईं बिना डर के प्रीति भी नहीं होती। इसलिए देश और देशवासियों की भलाई के लिए हमारे प्रधानमंत्री को कुछ ऐसे कदम भी उठाने चाहिए जिनसे लोगों के मन में सरकार के प्रति भय भी रहे। तभी कोराना वायरस को लेकर लागू किया गया लॉक सफल हो सकता है और लोग बीमारी की चपेट में आने से बचते।



 

इस बारे में बीएससी की छात्रा प्रियंका सोनी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर कहा है कि दुनिया व देश में कोरोना महामारी का रूप ले रही है। सरकार ने लोगों की भलाई के लिए बहुत से कदम उठाए हैं लेकिन लोग अभी भी सरकार के निर्देशों को नहीं मान रहे। जिसके कारण हालात और गंभीर हो सकते हैं।  इसलिए सरकार की ओर से कुछ ऐसे भी निर्णय लिए जाने चाहिए जिससे सरकार के प्रयासों को असफलता न मिले। पत्र में लिखा गया है कि प्रधानमंत्री देश के मुखिया हैं और  जनहित के जितने कार्य हैं, करने में लगे हुए हैं लेकिन कुछ लोग तुच्छ मानसिकता के कारण  उनकी सफलता में रोड़ा बन रहे हैं। देश का मुखिया होने के नाते प्रधानमंत्री को कुछ सख्त कदम ऐसे भी उठाने चाहिए। जैसे- बच्चों की भलाई के लिए पिता अपने परिवार लेता है अगर बच्चे नहीं मानते हैं तो उनकी जान बचाने के लिए देशहित की नीति अपनानी चाहिए। पत्र में कहा गया है कि प्रधानमंत्री पूरे देश की जनता को अपना परिवार कहते हैं। ऐसे में  परिवार को सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी  परिवार के मुखिया पर आ जाती है और पुलिस भी अलग-अलग जगह की होनी चाहिए। पत्र में यह भी सुझाव दिया है कि सहायता के कार्यों में लगे कर्मचारियों को उनके मूल स्थान से हटाकर अन्य स्थानों पर तैनात किया जाए जिससे कि उन पर भी भेदभाव के आरोप ना लगे।

Comments