कर्मचारियों ने पहले से भी कम वेतन देने व मास्क सैनिटाइजर ना देने का आरोप लगाते हुए आयुध निर्माणी में की नारेबाजी

कर्मचारियों ने पहले से भी कम वेतन देने व मास्क सैनिटाइजर ना देने का आरोप लगाते हुए आयुध निर्माणी में की नारेबाजी



 


मुरादनगर। कोरोना के कहर के कारण सरकार ने सभी कर्मचारियों को लॉक डाउन के दौरान उन्हें पूरा वेतन देने व जिन संस्थाओं में वह कार्य कर रहे हैं, यदि उनसे कार्य कराया जाता है तो रोग से बचाव के सभी उपकरण दिए जाने की घोषणा की है।  आयुध निर्माणी में बहुत से कार्य ठेकेदार द्वारा रखे कर्मचारियों द्वारा कराए जाते हैं। ठेकेदार के कर्मचारियों ने पहले से भी कम वेतन देने व मास्क सैनिटाइजर ना देने का आरोप लगाते हुए आयुध निर्माणी गेट के निकट जमकर हंगामा व नारेबाजी की।


कर्मचारी काफी देर ठेकेदार उसके कुछ सुपरवाइजर मनमानी करने का आरोप लगाते हुए नारेबाजी कर गेट के बाहर ही बैठ गए। काम बंद कर मजदूरों ने मांग की कि उन्हें पहले के समान मजदूरी का भुगतान किया जाए तथा कोरोना से बचाव के लिए सैनिटाइजर मास्क आदि उपलब्ध कराए जाए। कर्मचारियों का आरोप था कि वह लॉक  डाउन के दौरान कई बार ठेकेदार से रोग के बचाव के संसाधन उपलब्ध कराने की मांग कर चुके हैं। लेकिन ठेकेदार का कहना है कि फैक्टरी में काम करोगे फैक्ट्री वाले सैनिटाइजर मास्क आदि देंगे और फैक्टरी के अधिकारी हमसे कहते हैं कि अपने ठेकेदार से बात करो। हमारा तुमसे कोई मतलब नहीं है।


ज्ञात हो कि आयुध निर्माणी में लॉक डाउन के कारण उत्पादन बंद है। आयुध निर्माणी कर्मचारी लॉक डाउन के कारण कार्य पर नहीं आ रहे लेकिन कुछ कार्य ठेकेदार के आदमियों द्वारा कराए जा रहे हैं। मजदूरों का आरोप है कि ठेकेदार आयुध निर्माणी से उनका भुगतान ₹400 से अधिक का लेता है और अब ₹300 प्रतिदिन मजदूरी देने को कह रहा है। इसी बात को लेकर मजदूरों ने जमकर हंगामा व नारेबाजी की। कर्मचारियों ने बताया कि उनसे वादा किया गया था कि उन्हें निर्माणी द्वारा मजदूरी का किया गया पूरा भुगतान दिया जाएगा। लेकिन अब संकट की इस घड़ी में ठेकेदार उनका मेहनताना बढ़ाने की बजाएं घटा रहा है। 


Comments