कोरोना ग्राम पंचायतों को प्रशासन से नहीं मिली कोई मदद - अनिल त्यागी

कोरोना ग्राम पंचायतों को प्रशासन से नहीं मिली कोई मदद - अनिल त्यागी



मुरादनगर। कोरोना संकट के समय संक्रमण की रोकथाम के लिए शासन से ग्राम पंचायतों को कोई सहयोग नहीं मिला है। गांव खिमावती के प्रधान अनिल त्यागी ने बताया कि सरकार द्वारा कोरोना संक्रमण से बचाव के संसाधन ग्राम पंचायतों को देने की बात कही जा रही है लेकिन जब से लॉकडाउन लागू हुआ है तब से कोरोना की रोकथाम के लिए प्रशासन की ओर से ग्राम पंचायतों को कोई मदद नहीं मिली। अनिल ने बताया कि संचार माध्यमों से लोगों को पता चल रहा है कि सरकार द्वारा गांव में पंचायत द्वारा सैनिटाइजेशन मशीन सफाई के उपकरण व अन्य सहायता उपलब्ध कराई जा रही है लेकिन अभी तक वह सहायता किसी भी ग्राम प्रधान को नहीं मिली। जिसके कारण ग्रामीण भी प्रधानों पर ही योजनाओं को ना लाने का आरोप लगा रहे हैं। लेकिन सभी ग्राम प्रधान अपने गांव अपने मतदाताओं की सुरक्षा सर्वप्रथम सुनिश्चित कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि संक्रमण की शुरुआत से अभी तक वह गांव में कई बार सैनिटाइजेशन करा चुके हैं। उसका भी कोई भुगतान प्रशासन द्वारा नहीं किया जा रहा। 


ग्राम प्रधान को ही वह खर्च करना पड़ रहा है और स्थिति यह हो गई है कि जहां से सैनिटाइजेशन आदि का सामान लेते थे वहां से भी उधार मिलना बंद हो गया है। उन्होंने मांग की है कि ग्राम पंचायतों को कोरोना संक्रमण रोकथाम के संसाधन सरकार को अविलंब उपलब्ध कराने चाहिए। त्यागी ने कहा कि अपने क्षेत्र और गांव की सुरक्षा किस तरह हो सकती है। इससे अच्छा ग्राम पंचायत से ज्यादा कोई नहीं सोच सकता। सरकार द्वारा हाल ही में घोषणा की गई है कि प्रत्येक ग्राम पंचायत में सैनिटाइजेशन मशीनों की स्थापना के साथ ही सुरक्षा के अन्य उपकरण भी उपलब्ध कराए जाएंगे लेकिन अभी तक सरकारी स्तर से कोई सहायता ग्राम पंचायतों को नहीं मिली है। 


 


Comments