पुलिस ने पुलिस वाले को लूटा

पुलिस ने पुलिस वाले को लूटा 


 


मुरादनगर।  मुरादनगर के निवासी दिल्ली पुलिस में कर्मी फ़िरोज़ पुत्र नवाबुद्दीन के साथ पुलिस ने दिनदहाड़े लूट की। दिल्ली पुलिस में हैडकांस्टेबल फिरोज ने इस बारे में उच्चाधिकारियों को अवगत कराया है कि वह अपनी कार द्वारा जेवर से अपने साथ दो बकरे लेकर आ रहे थे। जैसे ही वह थाना कासना क्षेत्र में पहुंचे गाड़ी तेज़ कार रफ़्तार से एक दम हैडकांस्टेबल फिरोज की गाड़ी के सामने आकर रुक गयी जिसके कारण फ़िरोज़ की गाड़ी एक्सीडेंट होने से बाल बाल बच गयी। दो पुलिस वालों ने फिरोज की गाड़ी को घेर लिया। उसने आगे कहा है कि इंस्पेक्टर ने कहा तुम्हारी गाड़ी की तलाशी लेनी है और बकरों के बारे में फिरोज ने इंस्पेक्टर को बता कि वह जेवर से मुरादनगर इन बकरो को अपने घर ले जा रहा  हूं। इतना कहते ही उसके साथ अभद्रता की गई शुरू कर दी। इस  पर फिरोज ने भी बताया कि  वह भी दिल्ली पुलिस का हैडकांस्टेबल है, इस तरीके से बात मत कीजिये। आरोप है कि जैसे ही फ़िरोज़ ने अपना पर्स कार्ड दिखाने के लिए निकाला। इंस्पेक्टर ने पर्स छीनकर फिरोज को धक्का दे दिया। जिसमें पर्स में आधार कार्ड, पेन कार्ड और एटीएम व अन्य समान रुपए थे। इंस्पेक्टर ने पर्स अपनी जेब मे रख लिया। पर्स वापिस मांगने पर फिरोज को मारा और दोनों पुलिस वाले अपनी कार में बैठकर जाने लगे। वापिस पर्स मांगने पर फिरोज को बोलने लगे अपना पर्स थाना कासना आकर ले जाना। फिरोज ने सारी घटना अपने भाई एडवोकेट इमरान और एडवोकेट बिलाल को फोन पर बताई।  दोनों घटना स्थल पंहुचे। पीड़ित को लेकर थाना कासना गए। वहाँ के पुलिस अधिकारियों ने बताया कि यहां पर इस नाम का कोई भी पोस्ट पर नहीं है और यह घटना थाना दनकौर के क्षेत्र में आती है। वह थाना दनकौर गए तो वहां के पुलिस अधिकारी ने रिपोर्ट लिखने और कार्रवाई करने से साफ इंकार कर दिया। फिरोज ने सारी स्थिति से गौतम बुध नगर के कमिश्नर को अवगत कराते हुए कार्रवाई की मांग की है। 


Comments