प्रधानमंत्री ने विश्व में देश का मान बढ़ाया, सरकारी मशीनरी बेलगाम - रवि त्यागी

प्रधानमंत्री ने विश्व में देश का मान बढ़ाया, सरकारी मशीनरी बेलगाम - रवि त्यागी



मुरादनगर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विश्व में भारत को सम्मान दिलाया। सरकारी मशीनरी जिलाधिकारी के आदेशों के बावजूद तालाब की भूमि से कब्जे नहीं हटवा पाई है। प्रदेश के मुख्यमंत्री अच्छा कार्य करने का प्रयास कर रहे हैं लेकिन मुख्यमंत्री के निर्णयों का पालन कराने का दायित्व जिन के पास है वह ईमानदारी से कार्य नहीं कर रहे। यह कहना है क्षेत्र के अनुभवी राजनीतिक व लंबे समय तक किसान मोर्चा के अध्यक्ष रहे रवि त्यागी का। उनकी पत्नी कुंती देवी 2 योजनाओं में ग्राम बसंतपुर सैंतली की प्रधान रह चुकी हैं। 


रवि त्यागी ने कहा कि भाजपा का शीर्ष नेतृत्व अच्छा करने का प्रयास कर रहा है। लेकिन कार्यदाई संस्थाएं पुरानी मानसिकता से नहीं उबर पाई हैं। त्यागी ने बताया कि बसंतपुर सैंतली में लगभग 52 बीघा का तालाब था। उसके बड़े भाग पर अवैध कब्जे कर निर्माण करा दिए गए। जिलाधिकारी ने संबंधित विभाग के अधिकारियों को तालाब की भूमि तुरंत कब्जा मुक्त कराने के आदेश दिए थे लेकिन सरकारी मशीनरी इच्छाशक्ति की कमी या किसी अन्य कारण से तालाब की भूमि मुक्त नहीं करा पाई। त्यागी ने कहा कि सरकार द्वारा ग्राम पंचायतों को दिए जाने वाले धन का दुरुपयोग हो रहा है। उसे रोकने के लिए सरकार को गंभीर प्रयास करने पड़ेंगे। त्यागी ने कहा कि राम मंदिर हमारे आदर्श भावनाओं से जुड़ा हुआ है। देर से ही सही न्यायालय ने न्याय किया है। उसके साथ ही सरकार को ग्राम पंचायतों नगर पंचायतों पालिकाओं में स्थित मंदिरों के पुनरुद्धार उनके रखरखाव की व्यवस्था भी करनी चाहिए क्योंकि वह भी हमारी आस्थाओं से जुड़े हुए हैं। 


उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा गोपालन के नाम पर खर्च किए गए। पैसे का कोई लाभ नहीं मिल रहा। आवारा पशुओं की समस्या का समाधान नहीं हो रहा। उन्होंने कहा कि प्रत्येक मंदिर के लिए सरकार एक गौशाला का निर्माण कराएं। उससे गौ सेवा भी होगी, मंदिरों का रखरखाव भी गौशाला के दूध से मिले पैसे से हो सकता है। उससे जहां बहुत से लोगों को रोजगार के अवसर मिलेंगे वहीं जर्जर अवस्था में पहुंच गए। हिंदू आस्थाओं के मंदिरों का जीर्णोद्धार हो सकेगा। दूध देने वाली गौशाला में ऐसे पशु भी समायोजित किए जा सकते हैं जो दुधारू नहीं है, उसके लिए सरकार को थोड़ी कसरत करनी पड़ेगी लेकिन बहुत सारी समस्याओं का समाधान भी हो जाएगा। त्यागी खुद भी किसान हैं। 


उन्होंने कहा कि नया कृषि बिल किसानों की मुसीबतें और बढ़ाएगा। खेती कर उत्पादन करने वाला किसान को अभी भी अपनी मेहनत का वास्तविक मूल्य नहीं मिल पाया जबकि अन्न पैदा कर पूरे देश की रोटी का इंतजाम किसान ही करता है। उसे ही दुर्दशा में जीना पड़ रहा है। जब तक किसान सुखी नहीं होगा। तब तक हम अपने आप को संपन्न नहीं कह सकते। अन्नदाता पीड़ा में रहेगा। उसका कष्ट पूरे विश्व को सहन करना होगा। उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय विधायक के कार्य जनता को नहीं दिखलाई दे रहे। त्यागी ने कहा कि बिहार में गठबंधन की सरकार है लेकिन आगामी विधानसभा चुनाव में सरकार बनाने के लिए पक्ष विपक्ष दोनों को ही संघर्ष करना होगा। उन्होंने कहा कि एक समय वह था जब अमेरिका पहुंचने पर भारतीय प्रधानमंत्री की तलाशी ली गई थी। वहीं अब नरेंद्र मोदी का नाम लेकर राष्ट्रपति का चुनाव लड़ा जा रहा है। यह देश के लिए गौरव की बात है। उन्होंने कहा कि आगामी विधानसभा ग्राम पंचायत नगर पालिका चुनावों में बड़ी उथल-पुथल देखने को मिल सकती है। 


Comments