कई सालो बाद शनिवार को दीपावली दुर्लभ संयोग सभी के लिए लाभकारी - पंडित अजय त्रिपाठी 

कई सालो बाद शनिवार को दीपावली दुर्लभ संयोग सभी के लिए लाभकारी - पंडित अजय त्रिपाठी 


 



मुरादनगर। पंडित अजय त्रिपाठी ने बताया कि  कई सालों बाद दीपावली  शनिवार को मनाई जाएगी। यह दुर्लभ संयोग है। इस साल दीपावली  14 नवम्बर शनिवार को पड़ रही है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शनिवार और शनि का स्वराशि मकर में होना सभी के लिए लाभकारी है। इसके अलावा दीपावली  17 साल बाद सर्वार्थ सिद्धि योग में है। इस दिन मां लक्ष्मी और गणेश, सरस्वती, कुबेर आदि की पूजा करें जो कि शुभ और लाभदायक रहेगा। पंडित जी ने बताया कि  13 नवंबर को धनतेरस पर खरीदारी के लिए पहला मुहूर्त सुबह 7 से 10 बजे तक है. जबकि दूसरा शुभ मुहूर्त दोपहर 1 से 2.30 बजे तक रहेगा. दीपावली पर्व की शुरुआत धनतेरस के अवसर पर भगवान गणेश, माता लक्ष्मी और कुबेर जी की पूजा के साथ होती हैै l


 


 जिस प्रकार देवी लक्ष्मी सागर मंथन से उत्पन्न हुई थी उसी प्रकार भगवान धन्वंतरि भी अमृत कलश के साथ सागर मंथन से उत्पन्न हुए हैं। कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन ही धन्वंतरि का जन्म हुआ था इसलिए इस दिन को धनतेरस के नाम से जाना जाता है। धन्वंतरि जब प्रकट हुए थे तो उनके हाथों में अमृत से भरा कलश था। भगवान धन्वंतरि कलश लेकर प्रकट हुए थे इसलिए ही इस अवसर पर बर्तन खरीदने की परंपरा है।उन्होंने बताया कि ओम गं गणपताय नम: तथा ओम श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै नम: इन मंत्रों से पूजन करें तथा यथाशक्ति इन मंत्रों का जप करें। इस दिन मां लक्ष्मी के साथ गणेश पूजन, कुबेर का भी पूजन किया जाता है। लक्ष्मी को लाल कमल पुष्प विशेष प्रिय है। इस दिन 108 कमलपुष्पों व कमलवीजों से लक्ष्मी के 108 नामों के अर्चन करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं। दिवाली के दिन घर में पांच दीपक घी और पांच दीपक तेल के जलाकर दिवाली का विशेष पूजन किया जाता है। पंडित जी ने बताया कि 


 


लक्ष्मी पूजन शुभ मुहूर्त 


 


14 नवम्बर- शाम 5:28 से 7:24 तक।


 


सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त- 5:49 से 6:02 तक। लक्ष्मी पूजा मुहूर्त: शाम 6 बजे से रात 8 बजे तक


 


प्रदोष काल - शाम 5:55 बजे से रात 8:25 बजे तक


 


वृषभ काल - शाम 6 बजे से रात 8:04 बजे तक


 


गोवर्धन पूजा 2020: 15 नवंबर


 


गोवर्धन पूजा प्रातःकाल मुहूर्त - प्रातः 6:25 से प्रातः 8:30 तक


 


गोवर्धन पूजा सायंकला मुहूर्त - दोपहर 2:44 बजे से शाम 4:49 बजे तक।


 


भाई दूज 2020: 16 नवंबर


 


भाई दूज अपर्णा का समय: दोपहर 12:39 बजे से 2:44 बजे तक


 


द्वितीया तिथि 15 नवंबर को शाम 5:36 बजे शुरू होगी।


 


द्वितीया तिथि 16 नवंबर को दोपहर 2:26 बजे समाप्त हो रही है।


Comments