साप्ताहिक बंदी आवश्यक - शिव कुमार गुप्ता

साप्ताहिक बंदी आवश्यक - शिव कुमार गुप्ता


 



मुरादनगर। नगर में सप्ताहिक बंदी के आदेश खुली हुई दुकानों पर खुलेआम बिक रहे हैं लेकिन संबंधित विभागों के अधिकारी कर्मचारी साप्ताहिक बंदी की सफलता सुनिश्चित नहीं करा पा रहे हैं। बृहस्पतिवार पहले से ही साप्ताहिक बंदी दिवस था। कोरोना लॉकडाउन के दौरान साप्ताहिक बंदी शासन ने रविवार की घोषित की थी लेकिन लॉक डाउन से राहत मिलने के बाद दोबारा बृहस्पतिवार ही सप्ताहिक बंदी का दिन नियत किया गया था लेकिन नगर में खुली होटल, हलवाई, परचून, पेंट, मार्बल, बर्तन, सीमेंट, रोड़ी बदरपुर व रेडीमेंट सहित अधिकतर दुकानदार साप्ताहिक बंदी के दिन धड़ल्ले से दिनदहाड़े अपने संस्थान खोले बैठे रहे। जिसके कारण संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाता है क्योंकि बंद रहने वाली दुकानों के ग्राहक भी साप्ताहिक बंदी के दिन खुली हुई दुकानों पर पहुंचते हैं। जिस दुकान पर आम दिनों में 10 ग्राहक होते थे। बंदी के दिन वह सब खुली दुकानों पर एकत्र होते हैं जिससे शारीरिक दूरियां व कोरोना को लेकर दिए गए दिशानिर्देशों की भी धज्जियां उड़ रही हैं। ऐसे दुकानदारों ने व्यापारी संगठन को भी ठेंगा दिया दिखा रखा है। 


गुरुवार को मुख्य बाजार में कस्बा रोड़, बस स्टैंड, दिल्ली-मेरठ रोड़, रेलवे रोड़ दुकानें खुली रही। सरकार का एक नियम यह भी है कि प्रत्येक व्यक्ति को एक दिन का अवकाश अवश्य मिलना चाहिए लेकिन साप्ताहिक बंदी न मानने वाले मानव अधिकारों को भी दुकानों पर बेच कर खा रहे कुछ व्यापारियों ने अपनी सुविधाओं के अनुसार अपने संस्थानों में अवकाश दिवस घोषित किया हुआ है। 


मांसाहारी होटल मंगलवार को बंद रहते हैं। नगर का बड़ा उद्योग हैंडलूम पावर लूम एसोसिएशन रविवार को सभी संस्थानों की छुट्टी रखता है लेकिन कुछ दुकानदार शायद किसी नियम को मानने के लिए तैयार नहीं है। हैंडलूम पावर लूम एसोसिएशन के अध्यक्ष शिव कुमार गुप्ता ने बताया कि हैंडलूम पावर लूम इकाइयों में रविवार को काम बंद रखा जाता है। उन्होंने कहा कि साप्ताहिक बंदी आवश्यक है। जिम्मेदार अधिकारी आदेशों का पालन कराएं यह आवश्यक है। 


Comments