लोकदल के अध्यक्ष की अचानक हुई मौत से शहर के दिग्गज़ों में शोक व्यापत

लोकदल के अध्यक्ष की अचानक हुई मौत से शहर के दिग्गज़ों में शोक व्यापत



          स्वर्गीय चौधरी अजीत सिंह, लोकदल अध्यक्ष

मुरादनगर। राष्ट्रीय लोक दल के अध्यक्ष चौधरी अजीत सिंह का मुरादनगर क्षेत्र से काफी लगाव था। क्षेत्र के कार्यकर्ताओं को वह दूर से देख कर ही उनके नाम से आवाज लगाकर अपने पास बुला लेते थे। उनके निधन का समाचार मिलने पर पार्टी के कार्यकर्ताओं में शोक की लहर दौड़ गई। सहसा लोग विश्वास ही नहीं कर पा रहे थे कि उनके प्रिय नेता अब उनके बीच नहीं रहे। वहीं अन्य राजनीतिक पार्टियों, सामाजिक व्यापारिक संगठनों ने भी उनके निधन पर दुख व्यक्त किया है। वह 7 बार सांसद चुने गए। कई महत्वपूर्ण विभागों के केंद्रीय मंत्री रहे। उनके बारे में विपक्षी दलों के लोग भी कहते हैं कि उनका कार्यकाल अंतिम समय तक बेदाग रहा। भ्रष्टाचार भेदभाव के आरोप उन पर विपक्ष भी नहीं लगा सका। 

एक विधानसभा चुनाव के दौरान वह काफी दिनों तक क्षेत्र में रहे। उस दौरान उन्होंने कहा था कि मुरादनगर अब घर सा लगने लगा है। इसलिए समय बहाना मिलते ही इस और आ जाता हूं। समाजवादी पार्टी सरकार में दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री रहे तथा पूर्व विधान परिषद सदस्य आशु मलिक राष्ट्रीय लोक दल के जिला अध्यक्ष अजय प्रमुख पूर्व नगर पालिका परिषद उपाध्यक्ष चौधरी सतपाल सिंह, मेरठ मंडल के पूर्व सचिव असलम खान, चौधरी जितेंद्र सिंह कुंडू, व्यापार मंडल के अध्यक्ष शहजाद खान, कांग्रेस नेता महताब पठान, मुस्तकीम, मिल्लत खान , भारतीय जनता पार्टी के पूर्व जिला अध्यक्ष अरविंद भारतीय, भाजपा नेता गोपाल अग्रवाल , सभासद मनोज उर्फ टिंकल, भाजपा नेत्री गीता चौधरी अमरीश गोयल उद्योग व्यापार के जिलाध्यक्ष ज्ञानेंद्र सिंघल  हिंदू युवा वाहिनी के प्रशांत गुप्ता देवेंद्र पायल विकास त्यागी जिला पंचायत सदस्य अमित शाह सरना, विजय गौड़ एडवोकेट डॉक्टर मुशर्रफ बेग, परवेज चौधरी, चौधरी किरणपाल सिंह, विनोद जाटव, सर्राफा व्यापार मंडल के लोकेश सोनी, पूर्व ब्लाक प्रमुख आजाद सिंह, मनोज चौधरी, उत्तम त्यागी एडवोकेट, पूर्णज्ञानजलि इंटर कॉलेज के प्रबंधक चौधरी योगेंद्र सिंह आदि ने शोक व्यक्त किया।






Comments

Popular posts from this blog

अमेज़ॉन में हुआ काइट के 13 छात्रों का प्लेसमेंट, प्रत्येक छात्र को मिला 44.14 लाख का पैकेज

चेयरमैन सईउल्लाह खान ने कहा था न खाऊंगा न खाने दूंगा

कानूनी जागरूकता शिविर में छात्र छात्राओं ने दी कानून की जानकारी ग्रामीणों को जानकारी