श्मशान घाट 25 लोगों की मौत प्रधानमंत्री मुख्यमंत्री को ज्ञापन

 श्मशान घाट 25 लोगों की मौत प्रधानमंत्री मुख्यमंत्री को ज्ञापन



 मुरादनगर। उखलारसी श्मशान घाट पीड़ितों ने प्रधानमंत्री तथा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर नौकरी आवास तथा दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही की मांग की है। पत्र में कहा गया है कि 3 जनवरी 2021 को एक व्यक्ति के अंतिम संस्कार के लिए उखलारसी श्मशान घाट गए लोगों के ऊपर वहां नगर पालिका परिषद द्वारा नव निर्मित छत का लेंटर गिर गया था। जिसमें 24 लोगों के मौके पर ही मृत्यु हो गई तथा लगभग 40 व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गए थे। एक युवक की मृत्यु इलाज के दौरान अस्पताल में हो गई थी इस हादसे के लिए नगर पालिका परिषद पूरी तरह जिम्मेदार है। घटना के समय मौके पर पहुंचे उच्चाधिकारियों ने प्रथम दृष्टा दोषी नगर पालिका परिषद की अधिशासी अधिकारी निहारिका चौहान सहित 5 लोगों को जेल भेज दिया था तथा मृतकों के परिवार से एक व्यक्ति को नौकरी व 12 लाख रुपए आर्थिक सहायता बच्चों की निशुल्क पढ़ाई आवास दिलाने का आश्वासन लिखित में देकर मृतकों के अंतिम संस्कार करा दिए थे। जिन परिवारों के सदस्यों की मृत्यु हुई थे वह सभी आर्थिक रूप से कमजोर मजदूर वर्ग के थे। परिवार के कमाने वालों की मृत्यु के कारण परिजनों के पास जीवन यापन करने का कोई साधन नहीं है। परिवारों में बच्चे महिलाएं हैं नगद आर्थिक सहायता के चेक सभी को मिल गए लेकिन उस सहायता राशि से जीवन यापन संभव नहीं है। कुछ पीड़ित परिवार किराए के कमरों में रह रहे हैं। बड़े खेद के साथ अवगत कराना पड़ रहा अभी तक न किसी को नौकरी दी गई और न ही आवास उपलब्ध कराए गए हैं। इस विषय में केंद्रीय राज्यमंत्री रिटायर्ड जनरल वीके सिंह तथा क्षेत्र के विधायक अजीत पाल त्यागी जिला अधिकारी से भी इस बारे में अनुरोध किया था लेकिन आश्वासन के अलावा कुछ नहीं हुआ। इस हादसे का कारण निर्माण कार्य में भ्रष्टाचार है स्थानीय थाने में मुकदमा पंजीकृत हुआ था। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसकी जांच एसआईटी से कराने के आदेश दिए थे। यहां पंजीकृत मुकदमा भी लखनऊ स्थानांतरित हो गया था अभी तक जांच में कौन दोषी हैं क्या कार्रवाई हुई इसके बारे में भी कोई जानकारी नहीं मिल पा रही। बेसहारा हुए परिवार के सदस्य को शीघ्र नौकरी आवास दिलाने के साथ ही न्याय भी दिलाएं। जिससे परिवारों के सदस्य अपना जीवन यापन कर सकें तथा घटना के लिए दोषियों को भी दंड मिल सके जिससे दोबारा ऐसे हादसों की पुनरावृति न हो सके।

पत्र में संयुक्त रुप से सभी परिवारों के सदस्यों रविंद्र कुमार, पिंकी, कविता, ममता, पुष्प, लता, मनीष, शिवानी, मंजू, सुरेंद्र, धर्मवीर, सुधा, त्रिपाठी, रजनी, नीलम, निधि आदि ने हस्ताक्षर किए हैं। इस बारे में पीड़ित परिवारों ने बताया कि पत्र की प्रतिलिपि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को भी भेजी गई है। उन्हें आशा है कि प्रधानमंत्री मुख्यमंत्री नौकरी आवास तथा न्याय दिलाएंगे।

Comments