भूमि में हेरा फेरी तथा उप जिलाधिकारी पर कार्यवाही न करने के आरोप

भूमि में हेरा फेरी तथा उप जिलाधिकारी पर कार्यवाही न करने के आरोप 



मुरादनगर। नगर पालिका परिषद कि 6 करोड रुपए की भूमि अवैध कब्जे फर्जीवाड़ा जांच में सामने आ गया। उसके बावजूद उप जिलाधिकारी मोदीनगर ने जमीन में हेरा फेरी करने वालों के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की गई है। इस बारे में पूर्व नगरपालिका उपाध्यक्ष हैंडलूम पावर लूम एसोसिएशन के संरक्षक चौधरी सतपाल सिंह ने जिला अधिकारी को इस विषय में पत्र भेजकर कार्यवाही की मांग करते हुए कहा है कि 11.05.2018 को एक लिखित शिकायत मण्डलायुक्त मण्डल मेरठ से की थी। शिकायती पत्र जाँच हेतु तत्कालीन जिलाधिकारी गाजियाबाद को प्रेषित की गई जिसका सन्दर्भ संख्या 200140-19000997 है। मेरी व्यक्तिगत जानकारी अनुसार उक्त प्रकरण में जाँच उपरान्त सम्बन्धित लेखपाल व राजस्व निरीक्षक से प्राप्त रिपोर्ट के आधार पर शिकायत को सही मानते हुए तत्कालीन तहसीलदार मोदीनगर ने दिनांक 20.11.2018 को अपनी संस्तुति सहित तत्कालीन लेखपाल एवं रणधीर सिंह पुत्र खडका एवं मृतक रणसिंह के वारिस वीर सिंह, बिजेन्द्र व राजू एवं केसर पत्नी रणसिंह निवासीगण ग्राम उखलारसी तहसील मोदीनगर एवं राधेकिशन अरोडा पुत्र जयप्रकाश निवासी मुरादनगर के विरुद्ध उचित कार्यवाही किये जाने हेतु अपनी विस्तृत जाँच आख्या रिपोर्ट उपजिलाधिकारी मोदीनगर को प्रेषित की गई थी। जाँच आख्या रिपोर्ट प्राप्त हो जाने के उपरान्त लगभग ढाई साल व्यतीत हो जाने के उपरान्त तत्कालीन एस०डी०एम० मोदीनगर द्वारा उक्त प्रकरण में कोई कार्यवाही नहीं कराई गई। उच्चाधिकारीगणों के पारित आदेशों के अनुपालन में वर्तमान एस०डी०एम० मोदीनगर द्वारा विस्तृत निर्णय पारित किया गया। परगनाधिकारी मोदीनगर आदित्य प्रजापति द्वारा अपने पारित विस्तृत निर्णय दिनांक 05.04.2021 राधेकिशन अरोडा की फैहरिस्त सूची के अन्तिम पैरा में आपत्तिकर्ता कागजात में दाखिल खतौनियो के अवलोकन उपरान्त यह माना कि आपत्तिकर्ता द्वारा न्यायालय को गुमराह करने के उद्देश्य से उक्त खतौनी दाखिल की गई है। स्वार्थवश राजस्व रिकार्ड में हेरा फेरी करके मुरादनगर नगर पालिका की लगभग 6 करोड़ रूपये की सरकारी भूमि को बेचकर राज्य सरकार को भारी राजस्व की हानि पहुंचाई। लेकिन दोषियों के विरुद्ध कोई दंडात्मक कार्यवाही एफ0आई0आर दर्ज करने की संस्तुति वर्तमान एस०डी०एम० मोदीनगर द्वारा आज तक उच्चधिकारीगण को नहीं की गई हैै। जिससे वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारीगण की छवि धूमिल हो रही है व राज्य सरकार को करोड़ों रुपये की आर्थिक क्षति हो रही है। ऐसी स्थिति में राज्य सरकार के हित को ध्यान में रखते हुए वर्तमान उप जिलाधिकारी आदित्य प्रजापति एस०डी०एम० मोदीनगर के विरुद्ध प्रतिकूल प्रविष्टी/विभागीय कार्यवाही की जाए।


Comments