श्मशान घाट त्रासदी, उपजिलाधिकारी मोदीनगर के माध्यम से महिलाओं ने दिया जिलाधिकारी को ज्ञापन

श्मशान घाट त्रासदी, उपजिलाधिकारी मोदीनगर के माध्यम से महिलाओं ने दिया जिलाधिकारी को ज्ञापन 

मुरादनगर। 3 जनवरी 2021 श्मशान घाट में भ्रष्टाचार की छत के नीचे दबकर हुए नरसंहार से संबंधित परिवारों की महिलाओं ने उपजिलाधिकारी मोदीनगर के माध्यम से जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर एसआईटी द्वारा लखनऊ में की जा रही जांच गाजियाबाद भेजनें तथा यहीं के न्यायालय में सुनवाई किए जाने की मांग करते हुए यह भी कहा है कि अभी तक किन-किन दोषियों के विरुद्ध क्या क्या कार्रवाई हुई है, पीड़ित परिवारों को उससे भी अवगत कराने का आग्रह किया है। महिलाओं ने जिलाधिकारी को दिए ज्ञापन में यह भी लिखा है कि इस भयावह त्रासदी में 25 लोगों की जान चली गई थी, उस समय पुलिस प्रशासन के उच्चाधिकारियों ने पीड़ित परिवारों को आर्थिक सहायता एक सदस्य को नौकरी किराए पर रहने वाले को मकान देने का वादा किया था। लेकिन अभी तक किसी परिवार को आर्थिक सहायता के अलावा घोषित कोई भी सहायता नहीं मिली है जिसके कारण उनके बच्चों बूढ़े माता पिता के सामने आजीविका का भी संकट खड़ा हो गया है। उनके परिवारों को यह भी जानकारी उपलब्ध कराई जाए कि उनके गुनाहगार कौन हैं। ज्ञात हो कि नगर पालिका परिषद द्वारा उखलारसी श्मशान घाट में नगर पालिका द्वारा बनाए गए एक बरांडे के लेंटर की चपेट में आ कर 24 लोगों के मौके पर ही अपनों से कभी न मिलने की यात्रा पर चले गए थे। एक घायल की बाद में मृत्यु हुई थी इस मामले में नामजद कराए गए अधिकांश लोग छूट चुके हैं। जांच एजेंसियों ने किसे दोषी माना है यह भी जानकारी संबंधित परिवारों के सदस्य चाहते हैं। महिलाओं ने बताया कि उप जिलाधिकारी ने उन्हें नगर पालिका परिषद मे ठेकेदारी पर नौकरी करने के लिए कहते हुए भविष्य में स्थान होने पर संविदा कर्मी के रूप में कार्य दिलाने का आश्वासन दिया है। लेकिन महिलाओं ने सरकारी नौकरी के अलावा किसी अन्य कार्य में जाने से इंकार करते हुए स्थाई नौकरी की मांग रखी है साथ निष्पक्ष जांच करा कर दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई किए जाने की भी मांग की है।

Comments