खाटू श्याम मेला प्रारंभ

खाटू श्याम मेला प्रारंभ


मुरादनगर। क्षेत्र के ग्राम सुल्तानपुर में पिछले काफी समय से एक महात्मा की समाधि पर लगने वाला वार्षिक मेला रविवार से शुरू हो गया। मिली जानकारी के अनुसार जाट बहुल गांव सुल्तानपुर की स्थापना लगभग तीन सौ वर्ष पूर्व हुई थी। रिवाड़ी के पास जैतड़ावास गांव से कुछ लोग तत्कालीन शासकों से हुई अनबन के कारण अपना गांव छोड़कर चले आए थे। क्षेत्र के जंगल में एक महात्मा की कुटिया देखकर सुल्तान सिंह अपने परिवार के साथ यहां रुक गए। महात्मा खाटू श्याम जी के भक्त थे और यह परिवार भी श्याम बाबा का आराधक था। इसी स्थान का नाम सुल्तानपुर गांव हो गया। महात्मा के गोलोक धाम से जाने के बाद उनकी समाधि बनाई गई। तभी से गांव में फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को तालाब व महात्मा जी की समाधि के पास विशाल मेले का आयोजन किया जाता है। इस मेले में क्षेत्रवासियों के अलावा दूरदराज के श्रद्धालु व भक्तजन आते हैं। गांव के लोगों का कहना है कि तालाब से थोड़ी सी मिट्टी निकाल कर किनारे पर रख देने व जल शरीर पर छिड़कने से चर्म रोग समाप्त हो जाता है। श्याम बाबा की कृपा से आज तक सुल्तानपुर गांव में ओलावृष्टि या अतिवृष्टि से कोई नुकसान नहीं हुआ है और न हीं आज तक सर्पदंश से किसी की मृत्यु हुई है। तीन दिवसीय यह मेंला मंगलवार तक चलेगा। गांव के विपिन चौधरी, रवि शर्मा, जगमोहन शर्मा व जय हिंद चौधरी आदि ने बताया कि गांव में श्याम जी का भव्य मंदिर बनने के बाद से मेले में आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या हर वर्ष बढ़ रही है। मेले में गांव वाले यात्रियों की सुरक्षा के लिए पूरा प्रबंध करते हैं। मेले में कई प्रकार की खाने पीने की चीजें, खेल-खिलौने की दुकानें और झूले आदि लगाए जाते हैं।

Comments