समस्या लेकर पहुंचे फरियादियों को नगरपालिका के अधिशासी अधिकारी ने दी जेल भेजने की धमकी

समस्या लेकर पहुंचे फरियादियों को नगरपालिका के अधिशासी अधिकारी ने दी जेल भेजने की धमकी

 मुरादनगर। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद लोगों की समस्याएं सुन उन्हें दूर करा रहे हैं। अधीनस्थों को भी समस्याओं के त्वरित निदान करने के निर्देशों के साथ मंत्रियों तक को टाइम टेबल से पाबंद कर दिया है। जिसके कारण अधिकारियों में हड़कंप की स्थिति है निश्चित समय में अपने कार्यालयों में बैठकर लोगों की समस्याओं का गंभीरता से निदान करा रहे हैं लेकिन शायद यहां के नगर पालिका परिषद के अधिशासी अधिकारी मुख्यमंत्री के आदेशों निर्देशों की परवाह न कर लोगों को धमका रहे हैं कि यदि समस्याएं लेकर मेरे पास आए तो जेल भिजवा दूंगा। इस बारे में नगर की नूरगंज कॉलोनी निवासियों ने उप जिलाधिकारी को शिकायती पत्र देकर कहा है कि उनकी कॉलोनी को पानी सप्लाई करने वाली ट्यूबवेल पिछले 2 महीने से खराब हुई पड़ी है जिसके कारण पानी की परेशानी हो रही है। भीषण गर्मी चल रहे रोजा में लोगों को दूर-दूर से पानी का इंतजाम करना पड़ रहा है। पत्र में कहा गया है कि वह लोग कई बार अधिशासी अधिकारी के पास अपनी समस्या लेकर पहुंचे उन्होंने समस्या दूर कराने यह कहते हुए असमर्थता जताई कि टूवेल की मरम्मत के लिए फंड नहीं है। और यदि बार-बार शिकायत कर मुझे परेशान किया तो सभी को जेल भिजवा दूंगा एक जिम्मेदार अधिकारी के ऐसे धमकाऊ व्यवहार के कारण लोगों में भारी आक्रोश है। पत्र में हस्ताक्षर करने वाले दर्जनों लोगों में से दानिश तथा रिजवान ने बताया कि कॉलोनी के लोग समस्या लेकर गए थे लेकिन उन्हें जेल भेजने की धमकी देकर भगा दिया गया। इस बारे में लोगों ने मिलकर उप जिलाधिकारी को पत्र देकर अधिशासी अधिकारी के खिलाफ कठोर कार्रवाई तथा समस्या के समाधान की मांग की है पत्र की प्रतिलिपि सोशल मीडिया पर भी तेजी से वायरल हो रही है जिस पर लोग तरह तरह के कमेंट कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि अधिशासी अधिकारी लोगों को परेशान करने धमकी देने के आदी हो गए हैं। इससे पूर्व भी वह  उखलारसी  श्मशान घाट पीड़ित परिवारों की महिलाओं के खिलाफ झूठा मुकदमा दर्ज करा चुके हैं उनकी कार्यप्रणाली के कारण लोगों में भारी आक्रोश है। लोगों का कहना है कि यदि उप जिलाधिकारी ने इस मामले में कार्यवाही नहीं की तो वह उच्च प्रशासनिक अधिकारियों से मिलकर अधिशासी अधिकारी के व्यवहार समस्याओं से अवगत कराएंगे और और फिर भी कार्रवाई नहीं हुई तो प्रदेश के मुख्यमंत्री तक भी अपनी बात पहुंचाएंगे।

Comments