व्यापारियों का उत्पीड़न न हो - मुनेश जिंदल

व्यापारियों का उत्पीड़न न हो - मुनेश जिंदल


मुरादनगर। टैक्स के रूप में सबसे ज्यादा राजस्व सरकार को व्यापारी वर्ग देता है फिर भी व्यापारियों का ही उत्पीड़न होता है। क्षेत्र में बड़ी संख्या में अभी भी ऐसे लोग हैं जो दुकान पर रखे सामान को देखकर ही उसे खरीदने दुकान पर पहुंचते हैं। क्योंकि यहां बोर्ड वाली दुकाने नहीं सामान वाली दुकाने हैं। 
राष्ट्रीय मानव अधिकार एसोसिएशन की यहां हुई एक बैठक के दौरान संस्था के कोषाध्यक्ष व मार्बल कारोबारी मुनेश जिंदल ने यह बातें कहीं। उन्होंने कहा कि अतिक्रमण हटाने के नाम पर व्यापारियों का अपमान उत्पीड़न किया जा रहा है। अतिक्रमण हटाना सरकार का काम और अधिकार है उसकी व्यवस्था इस तरह होनी चाहिए जिससे किसी को नुकसान न हो। उन्होंने बताया कि अधिकारियों से मिलकर उन्हें सही जानकारी दी जाएगी। आगामी बैठक में अगली रणनीति तैयार की जाएगी। इस दौरान लाला गंगाचरण, अशोक कुमार, महिपाल सिंह, कमर पाल, आदि मौजूद रहे।

Comments

Popular posts from this blog

अमेज़ॉन में हुआ काइट के 13 छात्रों का प्लेसमेंट, प्रत्येक छात्र को मिला 44.14 लाख का पैकेज

चेयरमैन सईउल्लाह खान ने कहा था न खाऊंगा न खाने दूंगा

कानूनी जागरूकता शिविर में छात्र छात्राओं ने दी कानून की जानकारी ग्रामीणों को जानकारी